जब भारतीय रेल ने चलायी स्पेशल ट्रेन, रास्ते में रोकी तमाम गाड़ियां, ताकि भाजपा सांसद पूनम महाजन की फ्लाइट मिस न हो जाये

0

भारतीय जनता पार्टी की सांसद पूनम महाजन केलिए पिछले दिनों भारतीय रेल की ओऱ से वो इन्तिज़ाम किया गया जिसको सुनकर आप हैरान हो जाएंगे।

विभिन्न मीडिया ख़बरों के अनुसार, 31 मई को भारतीय रेन ने मध्य प्रदेश की बिना जिले से भोपाल के बीच सिर्फ इस वजह से महाजन केलिए स्पेशल ट्रैन की व्यवस्था की क्यूंकि सांसद महाशया को मुंबई केलिए फ्लाइट पकड़ना थी।

भाषा की एक खबर के अनुसार, पूनम को 31 मई की रात को लगभग 9 बजे भोपाल हवाई अड्डे से मुंबई के लिए विमान पकड़ना था। रेलवे द्वारा शाम को 7 बजे बीना से चली स्पेशल ट्रेन को भोपाल के बाहरी रेलवे स्टेशन सूखी सेवनिया तक मात्र 90 मिनट में पहुंचाया गया तथा इस ट्रेन को रास्ता देने के लिए मार्ग में कई नियमित ट्रेनों को विभिन्न स्टेशनों पर रोका गया। हालांकि रेलवे नियमों के तहत किसी भी सांसद के लिए स्पेशल ट्रेन चलाने का प्रावधान नहीं है।

दूसरी ओऱ रेलवे प्रबंधन का कहना था कि भाजपा सांसद को कोई VIP सुविधा नहीं उपलब्ध कराई गई। पश्चिम-मध्य रेलवे जोन के महाप्रबंधक रमेश चंद्रा ने PTI को बताया, ‘सांसद पूनम (पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रमोद महाजन की बेटी) को नियमों के खिलाफ जाकर कोई वीआईपी सुविधा नहीं दी गई है। वास्तव में भोपाल से स्पेशल ट्रेन रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा के लिए एक दिन पहले (31 मई) प्रदेश के सागर जिले में भेजी गई थी।’

महाप्रबंधक ने आगे कहा कि मनोज सिन्हा सागर में रेलवे के एक कार्यक्रम में शामिल हुए थे। इसी कार्यक्रम में पूनम महाजन भी शरीक हुई थीं। इसके बाद दोनों स्पेशल ट्रेन से सागर से निकट बीना पहुंचे और रेल राज्य मंत्री ने बीना में रेल ओवरब्रिज का उद्घाटन किया। उन्होंने बताया कि निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक समारोह के बाद सिन्हा को स्पेशल ट्रेन से भोपाल वापस लौटकर विमान सेवा से दिल्ली जाना था, लेकिन समारोह में देर होने की वजह से सिन्हा अंतिम क्षणों में अपने तय कार्यक्रम में बदलाव करते हुए बीना से ट्रेन द्वारा दिल्ली के लिए रवाना हो गए।

चूँकि रेल मंत्रालय केंद्र सरकार के अधीन आता है और केंद्र में इस समय नरेंद्र मोदी की भाजपा की सरकार है, लिहाज़ा ऐसे में एक भाजपा सांसद केलिए इस तरह की सुविधा उपलबध करना कई महत्वपूर्ण प्रश्न खड़े करता है।

इस कथित घटना से प्रधानमंत्री मोदी की उस दावों की भी हवा निकल जाती है जिनमें वो खुद देश का प्रधान सेवक कहते नहीं सकते हैं।

LEAVE A REPLY