दिल्ली: मुख्य सचिव से बदसलूकी मामले में केजरीवाल से आज पूछताछ करेगी पुलिस, मुख्यमंत्री ने की वीडियो रिकॉर्डिंग किए जाने की मांग

0

दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ मुख्यमंत्री आवास में हुई कथित रूप से मारपीट और बदसलूकी के मामले में आज यानी शुक्रवार (18 मई) को दिल्ली पुलिस आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से पूछताछ करेगी। दिल्ली पुलिस केजरीवाल से शुक्रवार शाम पांच बजे उनके सिविल लाइंस स्थित कैंप कार्यालय (सरकारी आवास) में पूछताछ करेगी। बुधवार को उत्तरी जिला पुलिस ने उन्हें नोटिस दिया था। जिसके जवाब में सीएम ने शाम को ही दिल्ली पुलिस को सुनिश्चित कर दिया कि वह शाम को कैंप कार्यालय में मौजूद रहेंगे।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पूछताछ का नोटिस मिलने के बाद मुख्यमंत्री केजरीवाल ने पुलिस जांच में सहयोग करने पर सहमति जताते हुए पूछताछ की वीडियो रिकॉर्डिंग किए जाने की मांग की है। पुलिस को लिखी जवाबी चिट्ठी में केजरीवाल ने कहा कि उनके पहले से कुछ कार्यक्रम तय हैं, इसलिए वह शुक्रवार सुबह 11 बजे नहीं मिल सकेंगे। वह शाम 5 बजे उनके कैंप ऑफिस आ जाएं। साथ ही पत्र में मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि पूछताछ के दौरान वह पूरे मामले की खुद वीडियो रिकार्डिग कराएंगे।

अगर पुलिस इसके लिए तैयार नहीं है तो वह खुद वीडियो रिकॉर्डिग कराए और पूछताछ खत्म होने पर रिकार्डिग की सीडी उन्हें दी जाए। दैनिक जागरण के मुताबिक इस पर उत्तरी जिले के एडिशनल डीसीपी हरेंद्र कुमार सिंह का कहना है कि वह मुख्यमंत्री को वीडियो रिकार्डिग करने नहीं देंगे। पुलिस ने जितने लोगों से पूछताछ की है, उन सभी की वीडियो रिकार्डिग खुद कराई है। केस के लिए यह अहम सुबूत है। मुख्यमंत्री को वीडियो रिकार्डिग की सीडी नहीं दी जाएगी।

क्या है पूरा मामला?

दरअसल, दिल्ली के मुख्य सचिव ने शिकायत दर्ज कराई है कि आम आदमी पार्टी (आप) के 2 विधायकों ने उनके साथ कथित तौर पर मारपीट की है। अंशु प्रकाश ने आरोप लगाया है कि 19 फरवरी 2018 की आधी रात 12 बजे मुख्यमंत्री के सिविल लाइंस स्थित आवास पर उन्हें बुलाया गया था। वहां पहले से एक कमरे में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के अलावा आम आदमी पार्टी के कई विधायक मौजूद थे। आरोप है कि मुख्य सचिव को सोफे पर दो विधायकों के बीच में बैठाया गया था। कुछ देर बाद ही विधायकों ने उनसे बदसुलूकी शुरू कर दी।

अंशु प्रकाश का आरोप है कि इस दौरान आम आदमी पार्टी विधायकों ने सरकारी विज्ञापन रिलीज करने का दबाव बनाया और उनके साथ मारपीट भी की। इस घटना के बाद मुख्य सचिव ने अगले दिन पुलिस में शिकायत दी तो पुलिस ने उनका मेडिकल कराया। मेडिकल में मारपीट की पुष्टि होने के बाद पुलिस ने इस संबंध में मामला दर्ज दर्ज जांच आरंभ की थी।कथित मारपीट की शिकायत के बाद मामला दर्ज कर जांच में जुटी पुलिस अब तक 22 लोगों से पूछताछ कर चुकी है।

इसमें आम आदमी पार्टी के 11 विधायक शामिल हैं, जबकि अन्य इस मामले से जुड़े अधिकारी व कर्मी शामिल हैं। मामले में पुलिस दो आम आदमी पार्टी के विधायकों अमानतुल्ला खां और प्रकाश जारवाल को गिरफ्तार भी कर चुकी है। मामले की जांच में जुटी पुलिस ने कई आरोपियों को आमने-सामने बैठाकर भी उनसे पूछताछ कर चुकी है। पुलिस अब इस मामले में मुख्यमंत्री से उनका पक्ष लेना चाहती है।

 

Pizza Hut

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here