धार्मिक कार्यक्रम के बाद लोगों में कोरोना वायरस के लक्षण दिखने पर दिल्ली पुलिस ने निजामुद्दीन इलाके की घेराबंदी की

0

दिल्ली पुलिस ने कुछ दिन पहले आयोजित एक धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने के बाद कई लोगों में कोरोना वायरस के लक्षण दिखने के बाद सोमवार (30 मार्च) को निजामुद्दीन में एक प्रमुख इलाके की घेराबंदी कर दी। पुलिस अधिकारी ने कहा कि प्राधिकारियों की अनुमति के बिना एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था जिसमें करीब 200 लोग शामिल हुए थे।

निजामुद्दीन
फोटो: सोशल मीडिया

समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘जब हमें पता चला कि इस तरह का आयोजन किया गया था, तो हमने उन्हें कोरोना वायरस का प्रसार रोकने के लिए लागू लॉकडाउन के तहत निषेधाज्ञा और लगाई गई पाबंदियों का उल्लंघन करने के लिए नोटिस दिया।’’ अधिकारी ने कहा, ‘‘कई लोगों में कोरोना वायरस के लक्षण दिखने के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया है और उनकी जांच की जा रही है।’’

समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक, निजामुद्दीन मरकज के प्रवक्ता डॉक्टर मोहम्मद शोएब ने कहा, “कल हमने प्रशासन को नामों की लिस्ट दी है, जिन्हें स्वास्थ्य की समस्याएं थी, जैसे कोल्ड या बुखार। कुछ लोगों को उम्र और ट्रैवल हिस्ट्री के आधार पर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हमारे पास अभी तक कोई कोरोना के कंफर्म केस नहीं है।”

बता दें कि, इस महीने की शुरुआत में दिल्ली सरकार ने धार्मिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक कार्यक्रमों के साथ-साथ 31 मार्च तक 50 से अधिक लोगों के विरोध प्रदर्शनों के लिए एकत्र होने पर भी रोक लगा दी थी। साथ ही कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए बुधवार से 21 दिन के लिए लोगों के आवागमन पर देशव्यापी रोक लगाई गई थी।

पुलिस किसी भी उल्लंघन की निगरानी के लिए ड्रोन का उपयोग कर रही है। पुलिस लगातार पेट्रोलिंग भी कर रही है, जिससे यह सुनिश्चित किया जाए कि कोई बाहर न घूम रहा हो। गौरतलब है कि, निजामुद्दीन स्थित मरकज इस्लाम की शिक्षा का प्रचार-प्रसार करने वाला विश्व का सबसे बड़ा केंद्र है जहां कई देशों के लोग आते रहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here