मेरठ: छात्रा का सनसनीखेज आरोप, पुलिस ने कहा- ‘मुसलमान दोस्त पर बलात्कार का केस कर दो, तुम्हें छोड़ देंगे’

0

उत्तर प्रदेश के मेरठ में मुसलमान दोस्त के साथ दिखने पर पुलिस की गाड़ी में महिला कॉन्स्टेबल द्वारा थप्पड़ और पुलिसकर्मियों की गाली की शिकार मेडिकल कॉलेज की छात्रा ने मीडिया से बातचीत में पुलिस पर कई सनसनीखेज आरोप लगाए हैं। छात्रा का आरोप है कि पुलिस ने उसे उसके दोस्त पर फर्जी बलात्कार का मामला दर्ज कराने का दबाव बनाया।

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने लड़की से कहा कि अगर वो मुसलमान लड़के पर रेप का केस करती है तो वो उसे जाने देंगे। छात्रा  ने अखबार को दिए इंटरव्यू में कहा, “मैं पुलिस स्टेशन में बैठी अपने घरवालों का इंतजार कर रही थी और पुलिसवाले मुझ पर मेरे दोस्त के खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज कराने का दबाव बना रहे थे। उन्होंने मेरे घरवालों को भी यही सलाह दी।”

इस बारे में पूछे जाने पर मेरठ के एसपी (सिटी) ने कहा कि उनकी जानकारी में ऐसी कोई बात सामने नहीं आई है। उन्होंने कहा कि अगर लड़की पर वाकई दबाव डाला गया तो ऐसा करने वाले पर उचित कार्रवाई की जाएगी। आपको बता दें कि मंगलवार को सोशल मीडिया पर एक हैरान करने वाला वीडियो सामने आया था, जिसमें एक महिला कॉन्स्टेबल लड़की को पीटते हुए उसे मुस्लिम साथी चुनने के लिए गालियां दे रही थी।

वायरल वीडियो में यूपी 100 की गाड़ी में मेडिकल छात्रा को पीटा जा रहा था। साथ ही उसके साथ गाड़ी में बैठे पुलिसकर्मी महिला सिपाहियों के सामने ही छात्रा से अश्लील बातें कर रहे थे। वीडियो में आगे बैठा हुआ पुलिसकर्मी छात्रा को अपशब्द कह रहा था, जबकि पीछे बैठी महिला सिपाही उसे मार रही है। वीडियो में पुलिसकर्मी युवती को यह कहते हुए सुनाई दे रहा है, “मुल्ला ज्यादा पसंद आ रहा है? हिंदू होते हुए….(गाली दे रहा है) मुल्ला का ले रही है….शर्म नहीं आ रहा है…’

वहीं, समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में लड़की ने बताया कि मैं अपने दोस्त के साथ बैठकर पढ़ाई कर रही थी, उसी समय बजरंग दल के कार्यकर्ता आए और मुझे एक रूम में बंद कर दिया और मेरे दोस्त को पीटा। युवती ने कहा कि उन्होंने मुझ से मेरी आईडी मांगी और टोन्ड किया कि तुम इससे शादी कैसे कर सकती हो, वह मुस्लिम है और तुम हिंदू। छात्रा का कहना है कि हमने उन्हें बताया कि जैसा आप सोच रहे हैं वैसा कुछ नहीं है।

पीड़िता ने बताया कि, “बजरंग दल के कार्यकर्ताओं द्वारा की गई बदसलूकी के कुछ देर बाद पुलिस मौके पर पहुंची और हमें एक दूसरी गाड़ी में बैठा दिया। गाड़ी में महिला पुलिसकर्मी ने मुझे गालियां दीं और मेरे साथ मारपीट की। पुलिस थाने में मुझसे मरे सहपाठी के खिलाफ रेप का केस दर्ज कराने के लिए कहा गया और इसके लिए दबाव बनाया गया, लेकिन मैंने और मेरे परिवार ने ऐसा करने से इनकार कर दिया।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here