PNB महाघोटाले पर पीएम मोदी से पहली बार तोड़ी चुप्पी, जानिए क्या कहा?

0

पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में 11,300 करोड़ रुपये के घोटाले से बैंकों के प्रति डगमगाए आम लोगों के विश्वास के संदर्भ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार चुप्पी तोड़ी है। उन्होंने कहा, ‘सरकार आर्थिक विषयों से संबंधित अनियमितताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई कर रही है, करेगी और करती रहेगी। जनता के पैसे का अनियमित अर्जन, इस सिस्टम को स्वीकार नहीं होगा।’

मोदी
file photo

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, पीएम मोदी ने वित्तीय संस्थानों के प्रबंधन व निगरानी निकायों से कहा है कि वे अपना काम पूरी कर्मठता से करें ताकि इस तरह के घपलों को रोका जा सके। एक कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि यह सरकार वित्तीय अनियमितताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई कर रही है और कड़ी कार्रवाई करती रहेगी और ‘प्रणाली (सरकार) सार्वजनिक धन की लूट को बर्दाश्त नहीं करेगी।’

प्रधानमंत्री ने हालांकि अपने संबोधन में नीरव मोदी या पंजाब नेशनल बैंक का नाम नहीं लिया। उन्होंने कहा कि वित्तीय संस्थानों के प्रबंधन, आडिटरों व नियामकों को अपना काम पूरे समर्पण से करना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि, ‘जिन लोगों को नियम व नीतियां बनाने तथा उच्च आचार कायम रखने का काम मिला है मैं उन लोगों से अपील करना चाहूंगा वे अपना काम पूरे समर्पण व कर्मठता से करें।’

गौरतलब है कि, देश का दूसरा सबसे बड़ा सार्वजनिक बैंक पीएनबी इन दिनों 11,400 करोड़ रुपये के धोखाधड़ी मामले के कारण चर्चा में है। अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी इस मामले में मुख्य आरोपी है, अनेक जांच एजेंसियां इस मामले की जांच में लगी हैं।

बता दें कि, नीरव अपने परिवार समेत जनवरी के पहले हफ्ते में ही देश छोड़कर भाग गया था, जांच एजेंसियों को भी अभी यह नहीं पता कि वह इस वक्त कहां हैं।

बता दें कि, अभी पिछले दिनों ही नीरव मोदी ने पीएनबी को पत्र भेजकर कहा था कि मामले को सार्वजनिक कर दिए जाने से बात बिगड़ गई है और बैंक ने उससे बकाया वसूलने के सारे रास्ते बंद कर लिए हैं। 15-16 फरवरी को बैंक को लिखे पत्र में नीरव ने कहा था कि, ‘गलत तौर पर बताई गई बकाया राशि से मीडिया में होहल्ला हो गया और परिणाम स्वरूप तत्काल तौर पर खोज का काम शुरू हो गया और परिचालन भी बंद हो गया। इससे समूह पर बैंक के बकाया को चुकाने की हमारी क्षमता खतरे में पड़ गई है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here