PM मोदी ने चौथी बार इस गैरबीजेपी शासित राज्य के मुख्यमंत्री से मिलने से किया इनकार, केजरीवाल ने साधा निशाना

0

केंद्र सरकार और गैर बीजेपी शासित राज्यों के बीच बढ़े तनाव के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कथित तौर पर केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन से चौथी बार मिलने से इनकार कर दिया है। केरल के मुख्यमंत्री कार्यालय ने आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री मोदी पहले भी कई बार मुलाकात का अनुरोध ठुकरा चुके हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, यह लगातार चौथी बार है जब प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा पीएम और सीएम (केरल) की बैठक के अनुरोध को ठुकरा दिया गया हो।

(Photo: PTI)

न्यूज 18 की रिपोर्ट के मुताबिक पिनाराई विजयन ने प्रधानमंत्री कार्यालय से मिलने के लिए वक्त मांगा था, लेकिन पीएमओ ने उन्हें वक्त देने से इनकार कर दिया। रिपोर्ट के मुताबिक पिछले तीन सालों में यह लगातार चौथी बार है जब केरल के मुख्यमंत्री को प्रधानमंत्री कार्यालय से अपॉइंटमेंट नहीं मिला। केरल सीएमओ के सूत्रों के अनुसार सीएम विजयन और केरल की ऑल पार्टी डेलिगेशन ने प्रधानमंत्री कार्यालय से मिलने के लिए वक्त मांगा था, लेकिन उन्हें वक्त नहीं मिल पाया।

बताया जा रहा है कि केरल के लिए राशन आवंटन में असमानताओं पर चर्चा करने के लिए पीएमओ से वक्त मांगा गया था। मुख्यमंत्री विजयन सीपीआई (एम) की केंद्रीय समीति की बैठक में भाग लेने के लिए दिल्ली जा रहे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक पीएमओ की ओर से कहा गया है कि अगर आपको जरूरी लगता है तो आप खाद्य और लोक वितरण मंत्री राम विलास पासवन से मुलाकात करें।

रिपोर्ट के मुताबिक इससे पहले 20 मार्च 2017 को भी केरल के मुख्यमंत्री कार्यालय ने पीएम मोदी से मुलाकात का वक्त मांगा था, लेकिन उस वक्त भी दोनों की भेंट नहीं हो पाई थी। तब सीएम विजयन बजट पर चर्चा करना चाहते थे। वहीं नंवबर 2016 में जब पीएम मोदी ने नोटबंदी की घोषणा की थी उस वक्त भी विजयन ने मोदी से मिलने के लिए वक्त मांगा था। इसके अलावा 24 नवंबर 2016 को पी विजयन ने पीएम मोदी से मिलने के लिए अप्वाइंटमेंट मांगा, लेकिन ये मुलाकात नहीं हो सकी थी।

केजरीवाल ने साधा निशाना

इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर सीएम विजयन का समर्थन करते हुए पीएम मोदी पर निशाना साधा है। सीएम केजरीवाल ने ट्वीट कर लिखा है कि प्रधानमंत्री द्वारा एक चुने गए निर्वाचित मुख्यमंत्री से मुलाकात करने से इनकार कर दिया! उन्होंने इसे अप्रत्याशित  और अतिसंवेदनशीलता बताया है।

दरअसल हाल ही कुछ सालों में केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने बीजेपी और केंद्र सरकार की नीतियों की काफी आलोचना की गई थी। अभी पिछले सप्ताह ही पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू, केरल के सीएम पिनरायी विजयन और कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने अधिकारियों को लेकर धरने पर बैठे सीएम केजरीवाल का समर्थन किया था।

दिल्ली में 17 जून को नीति आयोग की चौथी बैठक के दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल का समर्थन करने वाले इन चारों मुख्यमंत्रियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्वीट कर बताया था कि मैंने आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और केरल के माननीय मुख्यमंत्रियों के साथ आज माननीय प्रधानमंत्री से दिल्ली सरकार की समस्याओं का तत्काल समाधान करने का अनुरोध किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here