विदेश यात्रा के दूसरे चरण में श्रीलंका पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, ईस्टर बम धमाके के पीड़ितों को दी श्रद्धांजलि

0

दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी अपनी पहली विदेश यात्रा के दूसरे चरण में रविवार को पड़ोसी द्वीप देश श्रीलंका पहुंचे। मोदी ने इस यात्रा के लिए पड़ोसी देशों मालदीव और श्रीलंका को चुना। यह यात्रा ‘पड़ोसी प्रथम’ की उनकी नीति को दर्शाती है। श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने भंडरनायके अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर मोदी का स्वागत किया।

@PMOIndia

यहां से पीएम मोदी कोलंबो के सेंट एंटनी चर्च पहुंचे और अप्रैल में हुए आत्मघाती सीरियल ब्लास्ट में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी। बता दें कि ईस्टर धमाकों के बाद पीएम मोदी श्रीलंका पहुंचने वाले पहले विदेशी नेता हैं। पीएम मोदी के इस दौरे से श्रीलंका में विदेशी पर्यटकों की आवाजाही पर सकारात्मक असर पड़ेगा, जिससे लंकाई अर्थव्यवस्था को भी फायदा पहुंचेगा।

पीएम मोदी ने श्रीलंका पहुंचने के साथ ही ट्वीट किया, ‘‘फिर से श्रीलंका आकर अच्छा लग रहा है। पिछले चार साल में इस सुंदर द्वीप देश की यह मेरी तीसरी यात्रा है। मेरा उत्साह भी श्रीलंका के लोगों की गर्मजोशी से कम नहीं है। भारत अपने मित्रों को उनकी जरूरत के वक्त कभी नहीं भूलता। भव्य स्वागत से अभिभूत हूं।’’

प्रधानमंत्री मोदी श्रीलंका की एक दिवसीय यात्रा पर राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना, प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे और विपक्ष के नेता महिंदा राजपक्षे से मिलेंगे। देश की मुख्य तमिल पार्टी ‘द तमिल नेशनल एलायंस’ के प्रतिनिधिमंडल के भी प्रधानमंत्री मोदी से मिलने की संभावना है।

श्रीलंका में ईस्टर के दिन हुए बम विस्फोटों की पृष्ठभूमि में मोदी की यात्रा को श्रीलंका के साथ भारत की एकजुटता के रूप में भी देखा जा रहा है। आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट द्वारा किए गए विस्फोटों में 250 से ज्यादा लोग मारे गए थे। मोदी ईस्टर के दिन हुए आतंकी हमलों के बाद श्रीलंका पहुंचे पहले विदेशी नेता हैं। वह मालदीव की यात्रा के बाद कोलंबो पहुंचे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी मालदीव की यात्रा के बाद श्रीलंका पहुंचे हैं। मालदीव यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री मोदी को मालदीव का सर्वोच्च सम्मान ‘रूल ऑफ निशान इज्जुद्दीन’ भी मिला। उन्होंने मालदीव की संसद ‘मजलिस’ को भी संबोधित किया, जो पड़ोसियों में भारत की अहमियत को दर्शाता है। कनेक्टिविटी को बढ़ावा देने के लिए भारत और मालदीव ने केरला के कोच्चि से मालदीव तक फेरी सर्विस शुरू करने पर भी सहमति जताई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here