क्या PM मोदी को पता था कि सुधीर चौधरी ‘जी न्यूज’ ऑफिस के बाहर ‘पकौड़े’ बेचने वालों को भगाने का अभियान चला रहे हैं?

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक के बाद एक अपने दो पसंदीदा न्यूज चैनलों जी न्यूज और टाइम्स नाउ को इंटरव्यू दिया है।  प्रधानमंत्री मोदी ने शुक्रवार (19 जनवरी) की रात हिंदी समाचार चैनल जी न्यूज़ को साल 2018 का पहला धमाकेदार इंटरव्यू दिया। इस इंटरव्यू में पीएम मोदी ने राजनीति, अर्थव्यवस्था, अंतराष्ट्रीय मसले, जीएसटी, नोटबंदी और रोजगार जैसे कई अहम मुद्दों पर अपनी रखा। लेकिन इस इंटरव्यू में रोजगार के मुद्दे पर पीएम मोदी ने ऐसा उदाहरण दिया कि ट्विटर पर आज भी उन्हें ट्रोल किया जा रहा है।दरअसल, जब जी न्यूज के संपादक और एंकर सुधीर चौधरी ने पीएम मोदी से आम चुनाव के दौरान उनके द्वारा किए गए रोजगार के अवसर पैदा करने के वादे के मामले पर सवाल किया तब उन्होंने कहा कि अगर जी टीवी के बाहर कोई व्यक्ति पकौड़ा बेच रहा है तो क्या वह रोजगार होगा या नहीं? पीएम मोदी के इस उदाहरण पर सोशल मीडिया पर बवाल मच गया, कई लोगों ने इस बयान को युवाओं के साथ मजाक करार देते हुए नाराजगी व्यक्त की।

सुधीर चौधरी ने पीएम मोदी द्वारा नवंबर 2013 में आगरा में किए गए उस वादे को लेकर सवाल किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि युवाओं के लिए वह देश में एक करोड़ नौकरियां पैदा करेंगे, इस सवाल पर प्रधानमंत्री ने जवाब दिया, ‘कोई मुझे बताए कि अगर आपके जी न्यूज के बाहर किसी ने पकौड़े की दुकान लगाई और शाम को वह 200 रुपए कमाकर घर गया, इसको आप रोजगार कहेंगे कि नहीं कहेंगे? किस रजिस्टर में लिखा होगा कि यहां कोई व्यक्ति 200 रुपए रोज कमाता है। यह सीधी-सीधी समझ का विषय है कि बैंक से 10 करोड़ लोगों को पैसा दिया गया है, मतलब इतने सारे लोगों ने रोजी-रोटी पाई है।’

पीएम मोदी द्वारा पकौड़े की दुकान लगाने को रोजगार बताने के बाद से ही ‘पकौड़ा’ सोशल मीडिया पर तैर रहा है। सोशल मीडिया पर बहुत से लोग पीएम मोदी को उनकी इस टिप्पणी की वजह से घेर रहे हैं। वहीं, पीएम मोदी के समर्थक उनका बचाव कर रहे हैं। हार्दिक पटेल ने भी पीएम मोदी पर तंज कसते हुए कहा कि, ‘बेरोजगार युवाओं को पकौड़े का ठेला लगाने का सुझाव एक चाय वाला ही दे सकता है। अर्थशास्त्री ऐसा सुझाव नहीं देता।’

सुधीर चौधरी ने पीएम मोदी को अंधेरे में रखा?

लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि शायद प्रधानमंत्री मोदी को यह पता नहीं था कि नोएडा फिल्म सिटी (सैक्टर- 16 ए) में स्थित जी न्यूज के सामने कोई पकौड़े वाला अपना ठेला लगाता ही नहीं है। क्योंकि जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी और उनका चैनल खुद अवैध अतिक्रमण के खिलाफ काफी दिनों से अभियान चला रहे हैं और उनके इस अभियान की वजह से सैकड़ों गरीब मजदूरों को फिल्म सिटी सहित नोएडा के तमाम सैक्टरों से बेदखल होना पड़ा है।

जी हां, पीएम मोदी जब मिसाल दे रहे थे तो एंकर सुधीर चौधरी को उन्हें बताना चाहिए था कि सर हम तो किसी ठेले वाले को जी न्यूज के बाहर खड़ा ही नहीं होने देते। लोगों का कहना है कि पीएम मोदी को एक दौरा फिल्म सिटी का भी करना चाहिए। जिससे उनको पता चले कि जिस एंकर के सामने वह जिन मजदूरों का उदाहरण देकर अपनी सरकार का पीठ थपथपा रहे थे दरअसल पर्दे के पीछे की हकीकत कुछ और है।

रेहड़ी-पटरी वालों के खिलाफ अभियान चला रहे हैं सुधीर चौधरी

जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी अतिक्रमण को लेकर पिछले काफी दिनों से रेहड़ी-पटरी वालों के खिलाफ अभियान चला रहे हैं। सुधीर चौधरी सोशल मीडिया के अलावा अपने प्राइम टाइम कार्यक्रम डीएनए में भी अतिक्रमण को लेकर लगातार रेहड़ी-पटरी वालों पर हमला बोलते रहते हैं। अब उनके तमाम पुराने ट्वीट को शेयर कर लोग पीएम मोदी पर निशाना साध रहे हैं। लोगों का कहना है कि सुधीर चौधरी ने प्रधानमंत्री को अंधेरे में रखा।

देखिए, सुधीर चौधरी के ट्वीट:-

जी न्यूज के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार (21 जनवरी) अंग्रेजी न्यूज चैनल टाइम्‍स नाउ को इंटरव्‍यू दिया। चैनल पर इस इंटरव्यू का प्रसारण रविवार रात 9 बजे किया गया। टाइम्‍स नाउ की ओर से चैनल के एडिटर इन चीफ राहुल शिवशंकर और मैनेजिंग एडिटर नाविका कुमार ने पीएम मोदी से तमाम सवाल पूछे।

इस इंटरव्यू में पीएम मोदी से जीडीपी, सुप्रीम कोर्ट के जजों का विवाद, तीन तलाक, पाकिस्तान, राष्‍ट्रगान, आम बजट, कांग्रेस मुक्त भारत, सहित तमाम मुद्दों से जुड़े सवाल पूछा गया है। बता दें कि इससे पहले जी न्यूज पर संपादक सुधीर चौधरी ने पीएम मोदी का इंटरव्यू लिया था।

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here