…तो क्या पहले से तय होता है PM मोदी के इंटरव्यू के सवाल और जवाब? ट्रांसलेटर की वजह से खुली पोल! देखिये ये वीडियो

1

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सिंगापुर में दिए गए एक ‘इंटरव्यू’ का वीडियो सोशल मीडिया पर काफी तेज़ी से वायरल हो रहा है। इस इंटरव्यू के वायरल होने के पीछे की वजह जनता का रिपोर्टर द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट है जिसमें हमने ये साफ़ किया था कि किस तरह प्रधानमंत्री मोदी के इंटरव्यू के ना सिर्फ प्रश्न बल्कि उनके जवाब भी पहले से तैयार होते हैं।

सिंगापुर

प्रधानमंत्री मोदी सिंगापुर के नानयांग टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी (NTU) के एक कार्यक्रम में एक बड़ी भीड़ के सामने इंटरव्यू दे रहे थे। इंटरव्यू लेने वाले शख्स का नाम था सुब्रा सुरेश जो यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष थे और प्रधानमंत्री ने उन्हें ‘मित्र’ कह कर सम्बोधित किया था।

इंटरव्यू की शुरुआत सुरेश ने पीएम मोदी से इस सवाल से पूछकर की कि उनकी नज़र में आने वाले दिनों में एशिया के लिए क्या समस्याएं हो सकती हैं और इनका समाधान कैसे किया जा सकता है?

पीएम मोदी ने अपना उत्तर बहुत ही संक्षेप में दिया और फिर उनके जवाब का एक महिला ने अंग्रेजी में अनुवाद करना शुरू किया। लेकिन उन्होंने अपने अनुवाद में ऐसी बातें कह डाली जो मोदी ने अपने जवाब में कहा ही नहीं था। इससे ऐसा लगा कि मोदी के अनुवादक को प्रधानमंत्री के जवाबों की लिस्ट पहले से दे दी गयी थी और मोदी इंटरव्यू के दौरान उन्हें याद रखना भूल गए थे।

‘जनता का रिपोर्टर’ द्वारा यह रिपोर्ट प्रकाशित करने के बाद सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इस रिपोर्ट को को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर शेयर कर कांग्रेस और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल दोनों ने पीएम मोदी पर चुटकी ली। कांग्रेस ने अपने ट्वीट में कहा कि मोदी को भविष्य में कागज़ देख कर इंटरव्यू में पूछे सवालों का जवाब देना चाहिए।

मोदी के इंटरव्यू का वीडियो भी सोशल मीडिया पर बुरी तरह वायरल हो गया है और शनिवार को ट्विटर और फेसबुक पर ये मुद्दा काफी गरमाया रहा।

आप भी देखिये ये वीडियो

1 COMMENT

  1. जो आपने इस इंटरव्यू के बारे मे लिखा उसको देख कर मन सवाल आया की नरेंद्र मोदी का ईंटरवियु हो रहा है या उसके दुभाषिये का। क्योंकि जवाब जो मोदी ने दिया उससे लंबा जवाब दुभासिये का था व ज़्यादा डिटेंल मे था। मोदी ने अपने जवाब मे चीन या साउथ ईस्ट एशिया शब्दों का प्रयोग करा ही नही था। स्पष्ट जवाब की लिखित प्रतिलिपि दुभाषिय महोदयों के पास पहले से थी व जैसे जवाब पहले से पता था। यह भारत के प्रधान मंत्री के लिये इस से बजी शर्म की बात क्या हो सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here