हंगामे के बीच PM मोदी का कांग्रेस पर तीखा हमला, कहा- ‘आपके जहर की कीमत देश चुका रहा है’

0

बजट सत्र में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण पर मंगलवार (7 फरवरी) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया। हालांकि पीएम मोदी के भाषण के दौरान विपक्ष ने जमकर हंगामा किया। इस हंगामे के दौरान पीएम मोदी ने कांग्रेस पर तीखा हमला बोलते हुए कहा कि आपके जहर की कीमत देश चुका रहा है। पीएम ने विपक्ष के हंगामे पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि देश का विभाजन करके आपने जो जहर बोया आजादी के बाद देश की 125 करोड़ जनता हर दिन उसकी सजा भुगत रही है।

पीएम ने कहा कि कांग्रेस को लगता है कि देश का जन्‍म 15 अगस्‍त 1947 में हुआ था उससे पहले देश था ही नहीं। हंगामा करने वाले सांसदों से उन्‍होंने कहा कि आपको विरोध करने का हक है, लेकिन सदन का बंधक बनाने का हक नहीं है। मोदी ने कहा कि आपने (कांग्रेस) मां भारती के टुकड़े कर दिए उसके बाद भी ये देश आपके साथ खड़ा रहा था।

लोकसभा को जैसे ही पीएम मोदी ने संबोधित करना शुरू किया, वैसे ही विपक्ष की ओर से हंगामा किया जाने लगा। विपक्ष के नेता ‘बंद करो-बंद करो’ का नारा लगाने लगे। विपक्ष के जोरदार हंगामे के बीच पीएम मोदी ने कहा कि सिर्फ विरोध के लिए विरोध करना सही नहीं है।

उन्होंने कहा कि, ‘कांग्रेस ने देश को पनपने नहीं दिया, इसलिए हमें लोकतंत्र का पाठ न पढ़ाए।’ पीएम ने कहा कि बहुत से सांसदों ने बहुत से मुद्दों पर अपने विचार रखे। राष्ट्रपति का अभिभाषण किसी दल का अभिभाषण नहीं था, वह पूरे भारत की जनता की अकांक्षाओं के बारे में था। बता दें कि यह संसद के बजट सत्र में पीएम मोदी का पहला अभिभाषण है।

पीएम मोदी ने कहा कि, ‘मेरी आवाज दबाने की कोशिश हो रही है। कांग्रेस ने हमेशा से लोकतंत्र को कमजोर किया। कांग्रेस एक परिवार के गीत गाती रही। लोकतंत्र कांग्रेस या नेहरू जी की देन नहीं है। लोकतंत्र हमारी रगों में है, हमारी परंपरा में है। आपने (कांग्रेस) अन्याय न किया होता तो सरदार पटेल देश के पहले प्रधानमंत्री होते और कश्मीर समस्या न होती।’

प्रधानमंत्री ने कहा कि, ”राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान करीब 34 लोगों ने अपनी बात रखी। किसी ने पक्ष में तो किसी ने विपक्ष में अपनी बात रखी, लेकिन शांति से चर्चा हुई। राष्ट्रपति के अभिभाषण का सम्मान होना चाहिए, सिर्फ विरोध के लिए विरोध करना कितना उचित है?” उन्होंने कहा कि, ”हमारे देश में राज्यों की रचना आदरणीय अटल जी ने भी की थी। तीन राज्यों का निर्माण किया था। उत्तर प्रदेश में से उत्तराखंड बना हो।

चाहे बिहार से झारखंड बना हो या मध्यप्रदेश से छत्तीगढ़ का अलग होना हो। उस वक्त जिस तरह से निर्णय हुए वो ऐतिहासिक थे।’ पीएम मोदी ने कहा कि, ”आपके (कांग्रेस) चरित्र में है, जब आपने देश का विभाजन किया, उस जगह की कीमत आज भी देश चुका रहा है। आज एक दिन भी ऐसा नहीं जाता है जब आप के पाप की सजा देश को ना मिलती हो। आपने (कांग्रेस) देश के टुकड़े किए।”

पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस के मुंह पर लोकतंत्र शोभा नहीं देता और उन्हें बीजेपी को लोकतंत्र का पाठ नहीं पढ़ाना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल अगर देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो कश्मीर समस्या नहीं होती और पूरा कश्मीर हमारा होता। पीएम ने कहा कि दशकों तक कांग्रेस ने अपनी सारी ऊर्जा एक परिवार की सेवा में लगा दी और देश के हित को एक परिवार के हित के लिए नजरअंदाज कर दिया गया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here