पीएम मोदी के विदेश दौरों पर राहुल का तंज़ कहा- ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मस्त हैं और जनता त्रस्त है’

0

उत्तर प्रदेश में अपनी यात्रा के दूसरे दिन किसानों के कर्ज को माफ करने की पुरजोर वकालत करते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मस्त हैं और जनता त्रस्त है। उन्होंने प्रधानमंत्री के विदेश दौरों पर भी निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें भारतीयों पर ध्यान देना चाहिए क्योंकि वह उनके प्रधानमंत्री हैं।

राहुल ने मौजूदा व्यवस्था पर भी चुटकी लेते हुए कहा कि हजारों करोड़ रपये का कर्ज लौटाये बिना फरार उद्योगपति विजय माल्या को ‘डिफॉल्टर’ और किसानों को खटिया चुराने के लिए ‘चोर’ कहा जाता है।

Also Read:  Amidst Modi's plan for bullet train, RTI replies reveal 40% seats on Mumbai-Ahmedabad trains go vacant

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार को किसानों की हालत देखनी चाहिए जो ‘रो रहे’ हैं।

भाषा की खबर के अनुसार, राहुल ने खलीलाबाद में किसानों की एक ‘खाट सभा’ को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘जनता त्रस्त है, मोदीजी मस्त हैं। जनता रो रही है, किसान रो रहा है और मोदीजी मस्त हैं।’’ मोदी की विदेश यात्राओं पर निशाना साधते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा, ‘‘मोदीजी इंग्लैंड जाते हैं। कभी वह चीन, जापान जाते हैं। वह कई बार ओबामा से मिलते हैं।

Also Read:  Nation can ill afford damaged pride of our veterans: Chilling warning by ten former service chiefs to PM Modi
Congress advt 2

मैं उन्हें याद दिलाना चाहता हूं कि वह भारत के प्रधानमंत्री हैं, अमेरिका के नहीं। उन्हें यहां आना चाहिए और उनका ध्यान किसानों पर होना चाहिए।’’ राहुल ने दावा किया कि बीते दो साल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़े उद्योगपतियों और अमीरों का 1.10 लाख करोड़ रुपए का कर्ज माफ कर दिया, लेकिन किसानों की हालत भूल गये जो पूरे देश का बोझ उठाते हैं।

Also Read:  योग दिवस के बाद अब 'राष्‍ट्रीय आयुर्वेद दिवस' मनाएगी मोदी सरकार

उन्होंने कहा, ‘‘हम मोदीजी को बताना चाहते हैं कि अगर आप सूट-बूट की सरकार चलाना चाहते हैं तो आप चला सकते हैं। आप प्रधानमंत्री हैं और हम आपको नहीं रोक सकते। आपको गरीबों के लिए सरकार चलानी चाहिए। अगर आप बड़े उद्योगपतियों का कर्ज माफ कर रहे हैं तो आपको गरीब किसानों का भी कर्ज माफ करना होगा।’’ जारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here