मध्य प्रदेश: पीएम मोदी की सभा में काले कपड़े पहने लोगों को नहीं मिली एंट्री, सोशल मीडिया पर लोगों से जताई नराजगी

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक दिन के दौरे पर शनिवार(23 जून) को मध्य प्रदेश पहुंचे। ख़बरों के मुताबिक, लेकिन इस दौरान प्रशासन द्वारा वहां काले कपड़े पहनकर आए लोगों के कपड़े उतरवाने का मामला सामने आया है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, भोपाल पहुंचे पीएम मोदी ने मोहनपुरा वृहद सिंचाई परियोजना का लोकार्पण किया। 3,866 करोड़ रूपये की लागत से बनी इस परियोजना से 727 गांवों को सिंचाई सुविधा उपलब्ध हो सकेगी। लेकिन, हाल में ही राज्य में हुए किसान आंदोलन और अन्य घटनाओं को देखते हुए पीएम मोदी के विरोध के डर की आशंका से प्रशासन ने वहां काले कपड़े पहन कर आने वालों के कपड़े उतरवा दिए।

नवजीवन.कॉम की ख़बर के मुताबिक, कार्यक्रम क्षेत्र के आसपास काली शर्ट पहनकर जा रहे लोगों का प्रशासन ने शर्ट उतरवा दिया। राज्य प्रशासन को आशंका है कि काले कपड़े पहनकर जाने वाले लोग पीएम के कार्यक्रम का विरोध कर सकते हैं। जिसकी वजह से यह कार्रवाई की गई है। इससे पहले बांध की वजह से विस्थापित हुए लोगों ने पीएम के कार्यक्रम का काले झंडे दिखाकर विरोध करने का फैसला किया था।

रिपोर्ट के मुताबिक, विस्थापितों का कहना है कि सरकार द्वारा उन्हें अभी तक उचित मुआवजा नहीं दिया गया है। इसको देखते हुए काली शर्ट या गमछे में रैली में हिस्सा लेने पहुंचे लोगों से प्रशासन ने शर्ट और गमछा उतरवाने के बाद ही उन्हें अंदर जाने की इजाजत दी। पीएम के विरोध की आशंका को देखते हुए भोपाल से लेकर इंदौर तक चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मी तैनात किये गए हैं और चाक-चौबंद सुरक्षा व्यवस्था की गयी है।

बता दें कि, इस घटना को लेकर सोशल मीडिया पर भी लोगों ने नराजगी जताई है।

देखिए कुछ ऐसे ही ट्वीट

 

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, परियोजना का लोकार्पण करते हुए मोदी ने कहा, ‘बटन दबाकर परियोजना का लोकार्पण करना तो महज औपचारिकता है। जबकि इस परियोजना का असली लोकार्पण आपके पसीने और उसकी महक से हुआ है। मैं इस परियोजना के छोटे श्रमिक से लेकर बड़े यंत्र चलाने वाले सभी लोगों का सम्मान करता हूं।’

उन्होंने कहा कि इस परियोजना से लगभग सवा लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होगी तथा 700 से अधिक गांवों को इसका लाभ मिलेगा। इसके साथ ही इस परियोजना से 400 गांवों को पीने के पानी की समस्या से मुक्ति मिलेगी। उन्होंने कहा कि पानी की कठिनाई को दूर करना हमारी माताओं और बहनों की बड़ी सेवा है, जो कि दूरस्थ जगहों से पानी लाती हैं। इस कार्यक्रम में मध्यप्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश के जल संसाधन मंत्री नरोत्तम मिश्रा भी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here