जम्मू कश्मीर में अफरा-तफरी का माहौल, पेट्रोल पंप, एटीएम से लेकर राशन की दुकानों पर भारी भीड़, लौट रहे तीर्थयात्री

0

अमरनाथ यात्रा को रोककर तीर्थयात्रियों को वापस भेजने के अभूतपूर्व फैसले के बीच केंद्र सरकार के कुछ अन्य फैसलों के बाद कश्मीर में अफरा-तफरी का माहौल हो गया है। घाटी में बढ़ती अटकलों के बीच इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि वहां कुछ बड़ा होने वाला है।

जम्मू कश्मीर
फाइल फोटो

सैनिकों की तैनाती और विभिन्न आदेशों से जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने जैसे कुछ बड़े फैसलों को लेकर अटकलें बढ़ गई है। कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बिगड़ने की आशंका के चलते शहर के पेट्रोल पंपों, किरानों की दुकानों और एटीएम पर लोगों की लंबी लाइनें नजर आने लगी हैं। किसी आशंका के मद्देनजर ये लोग पहले से राशन-पानी जुटाने में लगे हुए हैं। वहीं, श्रीनगर के जिला अधिकारी (डीएम) डॉक्टर शाहिद चौधरी ने लोगों से कहा है कि जिले में जरूरत के सामानों का पर्याप्त भंडार उपलब्ध है इसलिए वह किसी भी अफवाह पर ध्यान नहीं दें और सामानों की जमाखोरी से बचें।

शहर के पेट्रोल पंप में भारी भीड़ को लेकर उन्होंने कहा कि यहां पर्याप्त मात्रा में पेट्रोल उपलब्ध है। राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईटी) श्रीनगर ने नोटिस जारी कहा था कि सभी विभागों में अगले आदेश तक कार्य स्थगित किया गया है। इस पर चौधरी ने कहा कि यह महज गलतफहमी है और इसमें कोई सच्चाई नहीं है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘‘श्रीनगर में आवश्यक वस्तुओं जैसे खाना, पेट्रोल और दवाईयां पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं। सड़कें खुली हुई हैं, इसलिए लोगों से आग्रह है कि वह अफवाहों पर ध्यान नहीं देकर सामानों की जमाखोरी से बचें।’’

चौधरी ने कहा कि अफवाहों के कारण सभी संस्थाओं को यह सलाह दी गई है कि किसी भी अफवाह पर भरोसा नहीं करें और इससे सावधान रहें। किसी भी संस्थान को बंद करने के लिए कोई आदेश नहीं दिया गया है। एनआईटी की नोटिस महज गलतफहमी है।

गौरतलब है कि प्रधान गृह सचिव शालिन काबरा के अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों को जल्द से जल्द घाटी छोड़ने के परामर्श जारी करने के बाद एटीएम में लोगों की लंबी लाइनें लग गयीं और लोग जरूरत का सामान खरीदने लगे। शुक्रवार की देर रात तक शहर के पेट्रोल पंपों में लंबी कतारें देखी गयीं।

बता दें कि जम्मू-कश्मीर में बीते एक हफ़्ते से फौज़ों की बढ़ती तैनाती को लेकर तनाव बना हुआ है। इससे ये अंदेशा बन रहा है कि राज्य में कुछ बड़ा होने वाला है. हालांकि सरकार इसे बहुत तूल देने से बचने की कोशिश कर रही है। (इंपुट: एजेंसी के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here