जम्मू और लद्दाख के लोग जल्द से जल्द अनुच्‍छेद 370 और 35ए को हटवाना चाहते हैं: BJP

0

लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को प्रचंड जीत मिलने के बाद अब जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35ए के प्रावधानों को खत्म करने की मांग उठने लगी है। राज्य में भाजपा संगठन के पदाधिकारियों ने अब पार्टी नेतृत्व से यह मांग की है कि जम्मू और लद्दाख के लोगों की भावनाओं का ध्यान रखते हुए नई सरकार राज्य को अनुच्छेद 370 के तहत मिले विशेष दर्जे को जल्द से जल्द खत्म करे। इन दोनों क्षेत्रों की जनता ने पीएम मोदी के पक्ष में जनादेश दिया है जिससे कि राज्य से अनुच्छेद 370 का विशेषाधिकार खत्म हो सके।

(AP File Photo)

भाजपा की जम्मू-कश्मीर इकाई ने शनिवार (25 मई) को दावा किया कि जम्मू और लद्दाख क्षेत्रों के लोग पार्टी को वोट देकर जल्द से जल्द संविधान के अनुच्छेद 370 और 35ए को हटवाना चाहते हैं। पार्टी ने यह भी कहा कि विधानसभा चुनावों के बाद अपने दम पर राज्य में सरकार बनाने का नेशनल कांफ्रेंस का दावा “खोखला” है। भाजपा की ओर से यह मांग उस वक्त उठी है जब एक दिन पहले ही राज्य के पूर्व सीएम और श्रीनगर के सांसद फारूक अब्दुल्ला ने यह कहा था कि भले ही बीजेपी को 2019 के चुनाव में बड़ी जीत मिली हो, लेकिन वह राज्य से विशेष दर्जे को खत्म नहीं कर सकती है।

भाजपा ने हाल ही में संपन्न हुए लोकसभा चुनाव में राज्य की उधमपुर, जम्मू और लद्दाख सीट पर जीत दर्ज की है, जबकि कश्मीर घाटी की सभी तीन सीटों श्रीनगर, बारामूला और अनंतनाग सीटों पर नेशनल कांफ्रेंस को जीत मिली थी। नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने शुक्रवार को कहा था कि प्रधानमंत्री विशाल बहुमत के बावजूद अनुच्छेद 35ए और 370 नहीं हटा सकते। उन्होंने आगे कहा, ‘वह चाहे जितना शक्तिशाली हो जाएं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता और राज्य से ये धाराएं नहीं हटाई जा सकतीं।’

फारूक अब्दुल्ला के बयान पर किया पटलवार

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, फारूक के बयान के एक दिन बाद इसपर भाजपा की राज्य इकाई के प्रवक्ता ब्रिगेडियर (सेवानिवृत) अनिल गुप्ता ने कहा, “अब्दुल्ला और नेशनल कांफ्रेंस के नेतृत्व के पास अनुच्छेद 35ए और 370 को लेकर बड़े-बड़े दावे करने के लिए जम्मू और लद्दाख का जनादेश नहीं है, क्योंकि इन दोनों क्षेत्रों के लोग इन अनुच्छेदों को जल्द से जल्द हटवाना चाहते हैं।”

अनिल गुप्ता ने कहा कि फारूक अब्दुल्ला और नेशनल कॉन्फ्रेंस के पास सिर्फ घाटी की सीटें हैं और उन्हें जम्मू और लद्दाख की जनता का मत नहीं मिला है। गुप्ता ने कहा कि बीजेपी को इस चुनाव में 46 फीसदी से अधिक वोट मिले हैं जो कि कांग्रेस, एनसी और पीडीपी के वोटों से कहीं ज्यादा हैं। गुप्ता ने कहा कि इस चुनाव में कांग्रेस को 28.5 फीसदी, नेशनल कॉन्फ्रेंस को 7.9 फीसदी और पीडीपी को 3.3 फीसदी वोट ही मिले हैं।

बता दें कि देशभर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘प्रचंड लहर’ पर सवार भाजपा लोकसभा चुनाव 2019 में ऐतिहासिक जीत दर्ज कर लगातार दूसरी बार केंद्र में सरकार बनाने जा रही है। लोकसभा चुनाव परिणाम में भाजपा को अकेले 303 और एनडीए को 553 सीटें मिली हैं। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को 282 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। वहीं, कांग्रेस को इस लोकसभा चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा है। कांग्रेस को इस बार 52 सीटें मिली हैं जो पिछले चुनाव में मिली 44 सीटों से ज्यादा हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here