भारत के खिलाफ मैच खेलने की ‘भीख’ नहीं मांग रहे, लेकिन सिरीज के लिए जोर देना हमारा अधिकार: पीसीबी

0

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के चेयरमैन शहरयार खान ने कहा कि वे भारत के खिलाफ खेलने की ‘भीख’ नहीं मांग रहे लेकिन उनका कहना है कि पीसीबी अपने अधिकार के तहत बीसीसीआई को दोनों देशों के बीच छह द्विपक्षीय सीरीज खेलने के लिए किये गये सहमति पत्र का सम्मान करने के लिये ‘जोर देगा’।

शहरयार ने खेलों पर राष्ट्रीय स्थायी समिति के साथ बैठक के बाद इस्लामाबाद में मीडिया से कहा, ‘हम उनसे हमसे खेलने के लिये भीख नहीं मांग रहे हैं। कृप्या ऐसा मत समझिये।

Also Read:  जम्मू-कश्मीर के केरन सेक्टर में संघर्ष विराम का उल्लंघन, एक जवान शहीद
Photo courtesy: indian express
Photo courtesy: indian express

लेकिन उन्होंने (बीसीसीआई) ने हमसे 2015 से 2023 के बीच छह द्विपक्षीय सीरीज खेलने के लिये सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किये हैं लेकिन वे अपनी प्रतिबद्धता पर पूरे नहीं उतरे।’

Congress advt 2

उन्होंने कहा, ‘क्रिकेट का देश होने के नाते यह हमारा अधिकार है कि हम उन्हें सहमति पत्र का सम्मान करने के लिये जोर दें। उन्हें हमसे तुंरत दो घरेलू सीरीज खेलनी चाहिए क्योंकि अंतिम पूर्ण द्विपक्षीय सीरीज भारत में 2007 में खेली गयी थी। सहमति पत्र में पाकिस्तान को 2015 से 2023 के बीच चार पूर्ण सीरीज की मेजबानी करनी थी।’

Also Read:  शिवसैनिकों ने किया बीसीसीआई के दफ्तर में हमला

यह सहमति पत्र 2014 में आईसीसी बैठक के दौरान खेला गया था और शहरयार ने कहा कि सहमति पत्र के अनुसार दोनों देशों को द्विपक्षीय क्रिकेट खेलना होगा क्योंकि पीसीबी वित्तीय लाभ के लिये इन सीरीज पर निर्भर है।

Also Read:  कश्मीर की हिंसा पर बोले पाकिस्तानी कलाकार, वीडियों बनाकर दिया संदेश

भाषा की खबर के अनुसार, उन्होंने कहा, ‘हम समझौते पत्र के मुद्दे पर अपने वकीलों से सलाह मश्विरा कर रहे हैं और इस महीने होने वाली एशियाई क्रिकेट परिषद (एसीसी) की बैठक में हम द्विपक्षीय सीरीज का यह मामला उठायेंगे।’ शहरयार को हाल में एसीसी का चेयरमैन चुना गया था और वह 17 दिसंबर को कोलंबो में अगली बैठक की अध्यक्षता करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here