पटना: अब PM मोदी के कार्यक्रम में भी शामिल होने के लिए अनिवार्य हुआ ‘आधार’

0
पटना विश्व विद्यालय के शताब्दीव समारोह में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 14 अक्टूयबर(शनिवार) को बिहार दौरे पर जा रहे हैं। तय कार्यक्रम के अनुसार, पीएम मोदी पटना के गांधी मैदान से बिहार के लिए कई मेगा परियोजनाओं का शि‍लान्या स भी करेंगे।

इनमें से अधि‍कांश परियोजनाएं 2015 के विधानसभा चुनाव से पहले बिहार को दिए गए पैकेज में शामिल हैं। लेकिन पीएम मोदी के इस दौरे का सबसे खास बात यह है कि पटना विश्वविद्यालय के शताब्दी वर्ष समारोह में शामिल होने वाले विश्वविद्यालय के पोस्टग्रेजुएट छात्रों और रिसर्च स्कॉलर्स के लिए आधार कार्ड अनिवार्य कर दिया गया है।

यह कदम इंदिरा गांधी इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस द्वारा मरीजों की भर्जी में आधार कार्ड को जरुरी करने के बाद उठाया गया है। अंग्रेजी अखबार ‘द टेलीग्राफ’ के मुताबिक, 14 अक्टूबर को पटना विश्वजविद्यालय के 100 वर्ष पूरे हो रहे हैं। जिसके तहत शनिवार को विश्वविद्यालय के शताब्दी वर्ष समारोह का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें पीएम मोदी कार्यक्रम का अनुग्रह करेंगे।

सीमित की गई छात्रों की संख्या रिपोर्ट के मुताबिक, विश्वविद्यालय की उपकुलपति डोली सिन्हा द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार जिला प्रशासन द्वारा निर्देश दिए गए हैं कि इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए छात्रों की संख्या सीमित की जाए। इस कार्यक्रम में केवल पोस्टग्रेजुएट छात्र और रिसर्च स्कॉलर्स को ही आने की अनुमति होगी, जिसके लिए उन्हें अपना आधार कार्ड दिखाना होगा।

खबरों की मानें तो जो भी पोस्टग्रेजुएट छात्र और रिसर्च स्कॉलर्स छात्र संगठन से जुड़े होंगे उन्हें इस कार्यक्रम में शामिल होने की इजाजत नहीं दी जाएगी। क्योंकि विश्वविद्यालय को संदेह है कि वे किसी प्रकार की परेशानी खड़ा कर सकते हैं। इनके अलावा अंडरग्रेजुएट छात्रों में केवल उन्हीं को कार्यक्रम में शामिल होने दिया जाएगा जो कि नेशनल कैडट कॉर्पस और नेशनल सर्विस स्कीम से जुड़े होंगे, जिनके लिए विश्वविद्यालय के विभाग द्वारा सिफारिश की जाएगी।

छात्रों ने जताई हैरानी हाल ही में पोस्टग्रेजुएशन की डिग्री पाने वाली मोहम्मद तमन्ना ने टेलीग्राफ से बातचीत में कहा कि यह हमारे लिए बहुत गर्व की बात है कि विश्वविद्यालय अपनी 100वीं वर्षगांठ मना रहा है जिसमें पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा समारोह का अनुग्रह होगा। एक तरफ तो खुशी है लेकिन हमें आश्चर्य हो रहा है कि कार्यक्रम में केवल सीमित छात्रों को ही एंट्री मिल पाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here