VIDEO: बाबा की बाज़ीगरी की खुली पोल, बाढ़ पीड़ितों में बंटवा दिए पंतजलि के एक्सपायरी डेट वाले प्रोडक्ट

0

असम में बाढ़ से जूझ रहे बाढ़ पीड़ितों को राहत के नाम पर योग गुरू बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद ने हाल ही में राहत सामग्री के नाम पर कुछ प्रोडक्ट बांटे थे। लेकिन राहत सामग्री के नाम पर जो प्रोडक्ट भेजे गए थे उनमे से अधिकांश एक्सपायर हो चुके थे, जिसके चलते कई लोग बीमार हो गए।

एक्सपायरी डेट
फाइल फोटो

असम के स्थानीय टीवी चैनल टाइम 8 के एक वीडियो के मुताबिक पतंजलि ने मजुली जिले में करीब 12 लाख रुपये मूल्य का सामान भेजा है, इनमें से अधिकांश एक्सपायरी डेट की हैं। वहां स्थानीय मीडिया में यह खबर भी आई कि इन सामानों को इस्तेमाल करने के बाद कई लोग बीमार पड़ गए।

पतंजलि के मजुली जिला शाखा प्रमुख रोहित बरुआ ने मीडिया में इस बात की पुष्टि की है कि वहां 30 अगस्त को बांटे गए सामान जिनमें दूध पावडर और जूस भी शामिल है, या तो एक्सपायर हो चुके थे या एक्सपायर होने वाले थे।

साथ ही उन्होंने कहा कि शुरुआत में हमलोगों ने यह नोटिस नहीं किया और सारे सामान बाढ़ पीड़ितों में बांट दिए लेकिन जब कुछ युवकों ने इसकी शिकायत जिला आयुक्त से की तब इसका खुलासा हुआ।

वहीं, इस वीडियो में दिख रहा है कि जिन सामानों पर एक्सपायरी डेट अक्टूबर 2016 लिखा है, उसे भी बाढ़ पीड़ितों के बीच बांट दिया गया। दूध पावडर के कुछ डिब्बों पर 5 सितंबर 2017 एक्सपायरी डेट लिखा था।

वहीं दूसरी और जिला प्रशासन ने एक्सपायरी सामान बांटे जाने से इनकार किया है, जिलाधिकारी ने कहा कि एक्सपायरी सामान आए थे लेकिन उन्हें बाढ़ पीड़ितों के बीच बांटा नहीं गया। जिलाधिकारी ने बताया कि उन्होंने इस बारे में पतंजलि आयुर्वेद को पत्र लिखा है।

बता दें कि, अभी हाल ही में दिल्ली हाईकोर्ट ने बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड को च्यवनप्राश के विज्ञापन को प्रकाशित या प्रसारित करने से रोक दिया है। यह कार्रवाई प्रतिद्वंद्वी डाबर की उस शिकायत पर की गई है, जिसमें उसने कहा था कि पतंजलि के विज्ञापन में उसके ब्रैंड को नीचा करके दिखाया जा रहा है।

न्यूज एजेंसी PTI के मुताबिक, कार्यकारी चीफ जस्टिस गीता मित्तल और जस्टिस सी हरी शंकर ने अंतरिम आदेश में पतंजलि को 26 सितंबर तक किसी भी माध्यम से च्यवनप्राश का विज्ञापन न करने को कहा है, 26 को इस मामले की अगली सुनवाई होगी।

देखिए वीडियो

Exclusive | Patanjali has distributed expired/about to be expired food items to flood affected people of Majuli in Assam.Locals protest vehemently against the unjust act by Patanjali.Incharge of Patanjali Majuli admits about the existence of expired food items in the stock. Many have fallen sick after consuming expired food items, alleged locals of Majuli.

Posted by TIME8 on Wednesday, 6 September 2017

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here