कर्मचारी चयन आयोग परीक्षा प्रश्नपत्र लीक मामले में नीतीश कुमार ने रद्द की परीक्षा, दो को किया गया गिरफ्तार

0

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गत पांच फरवरी को आयोजित बिहार कर्मचारी चयन आयोग (बीएसएससी) के क्लर्क ग्रेड की परीक्षा का परीक्षा के प्रश्न पत्र लीक हो गया था, जिसको रद्द किए जाने की बुधवार (8 फरवरी) को घोषणा किए जाने के साथ बीएसएससी के सचिव सहित दो को पुलिस ने आज (बुधवार, 8 फरवरी) शाम गिरफ्तार कर लिया।

Nitish Kumar

पटना स्थित पुराना सचिवालय में बुधवार को मंत्रिपरिषद की बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए नीतीश ने कहा कि मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह और पुलिस महानिदेशक पी के ठाकुर की प्राथमिक रिपोर्ट के आधार पर राज्य सरकार ने बीएसएससी के क्लर्क ग्रेड की परीक्षा को रद्द कर दिया है।

इस परीक्षा को रद्द किए जाने की घोषणा करने के पूर्व मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव सहित अन्य अधिकारियों से इसको लेकर विस्तृत बैठक की थी। उल्लेखनीय है कि गत 6 फरवरी को नीतीश ने कहा था कि बिहार कर्मचारी चयन आयोग की परीक्षा में प्रश्न पत्र लीक होने से संबंधित जो खबरें समाचार पत्रों में आयी है उसके आलोक में मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक से उन्होंने बात की है।

उन्हें निर्देश दिया है कि इस मामले की गहराई से हर पहलू की जांच की जाये। सभी दृष्टिकोण से जांच कराने का निर्देश दिया गया है। गत पांच फरवरी को उक्त परीक्षा का प्रश्नपत्र लीक होने पर नवादा जिला में बीएसएससी की परीक्षा के दौरान इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के जरिए परीक्षार्थियों को नकल कराने वाले 28 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था, जबकि एसएससी द्वारा प्रश्नपत्र लीक होने से इंकार किया गया था।

भाषा की खबर के अनुसार, मुख्यमंत्री के निर्देश के आलोक में इस मामले की जांच के लिए पटना के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मनु महाराज के नेतृत्व में एक विशेष जांच टीम का गठन किया गया था। इस मामले में बीएसएससी के सचिव परमेश्वर राम के आवास की तलाशी लिए जाने के बाद बीती रात्रि पुलिस ने पूछताछ के लिए उन्हें हिरासत में लिया था और पूछताछ के बाद आज (बुधवार, 8 फरवरी) शाम उन्हें और एक अन्य कर्मचारी को गिरफ्तार कर लिया।

पटना के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मनु महाराज ने बताया कि प्रश्नपत्र लीक मामले में बीएसएससी के सचिव परमेश्वर राम और एक अन्य कर्मचारी को गिरफ्तार कर लिया गया है। मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि बिहार कर्मचारी चयन आयोग (बीएसएससी) के क्लर्क ग्रेड की इस परीक्षा के लिए प्रत्येक उम्मीदवार से दो से पांच लाख वसूला गया था।

विदित हो कि इससे पूर्व बिहार विद्यालय समिति द्वारा प्लस 2 परीक्षा में टॉपर्स घोटाले के बाद परीक्षा में धांधली मामले में समिति के अध्यक्ष लालकेश्वर सिंह, उनकी पत्नी एवं पूर्व जदयू विधायक उषा सिन्हा और वैशाली जिला के एक महाविद्यालय के प्राचार्य बच्चा राय सहित कई अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here