उत्तर प्रदेश में बैलेट पेपर से कराए जाएंगे नगर निगम चुनाव?

0

उत्तर प्रदेश में इस साल होने वाले नगर निगम चुनाव बैलेट पेपर से हो सकते हैं। उत्तर प्रदेश निर्वाचन आयोग ने गुरुवार(13 अप्रैल) को भारतीय निर्वाचन आयोग से आग्रह किया कि अगर नई ईवीएम नहीं मुहैया हो सकतीं तो वह उत्तर प्रदेश में स्थानीय निकायों के मेयर और पार्षदों का चुनाव पारंपरिक पेपर बैलट के जरिए कराने की अनुमति दे।

फोटो: साभार

राज्य निर्वाचन आयुक्त एस के अग्रवाल ने पीटीआई को बताया कि मेरी मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी से बात हुई है और मैंने उनसे आग्रह किया है कि चुनाव आयोग नई ईवीएम (इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन) मुहैया कराए जो ठीक ठाक स्थिति में हों अन्यथा शहरी स्थानीय निकायों के चुनाव पेपर बैलट के जरिए कराने की अनुमति मिलनी चाहिए।

Also Read:  CBI रेड के एक दिन बाद अब लालू की बेटी मीसा भारती और उनके पति के तीन ठिकानों पर ED का छापा

उन्होंने बताया कि राज्य भर में शहरी स्थानीय निकायों की चुनावी प्रक्रिया जुलाई के दूसरे सप्ताह तक संपन्न की जानी है। अग्रवाल ने कहा कि उन्हें भारत के निर्वाचन आयोग के जवाब की प्रतीक्षा है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में राज्य निर्वाचन आयोग वार्डों के सीमांकन का कार्य युद्धस्तर पर कर रहा है।

उत्तर प्रदेश में शहरी स्थानीय निकायों के चुनाव 2012 में हुए थे। बारह नगर निगमों के मेयर और पार्षदों का चुनाव कराने में ईवीएम का इस्तेमाल किया गया था। राज्य की 194 नगर पालिका परिषदों और 423 नगर पंचायतों के प्रतिनिधियों के चुनाव के लिए पेपर बैलेट का इस्तेमाल किया गया था।

Also Read:  J&K: अलगाववादी नेता आसिया अंद्राबी श्रीनगर में गिरफ्तार

अग्रवाल ने कहा कि नवंबर 2016 में हमने भारत के निर्वाचन आयोग को पत्र लिखकर मध्य प्रदेश से ईवीएम आवंटित करने का आग्रह किया था। हमें मध्य प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बाद में सूचित किया था कि भारतीय निर्वाचन आयोग के आदेश पर ईवीएम महाराष्ट्र भेज दी गई हैं।

उसके बाद राज्य निर्वाचन आयोग ने कहीं और से ईवीएम प्रदान करने का आग्रह किया। फिर हमें पता लगा कि शहरी स्थानीय निकाय चुनावों में इस्तेमाल होने वाली ईवीएम के माडल 2006 से पूर्व के हैं और चुनाव आयोग ने उन ईवीएम को अनुपयोगी करार दिया है।

Also Read:  दिल्ली में सरकारी हॉस्पिटल की चरमराई व्यवस्था, मंत्रीगण कुछ कीजिये

अग्रवाल ने कहा कि मैंने जैदी से कहा कि यदि चुनाव आयोग ईवीएम को अनुपयोगी मान रहा है तो उन्हें हमें (यूपी) क्यों मुहैया करा रहा है। यह संवेदनशील मुद्दा है। यदि हमें नयी ईवीएम नहीं मिल सकतीं तो हम शहरी स्थानीय निकायों के चुनाव पेपर बैलेट से कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here