पंकजा मुंडे ने अपने पिता के गुरू महंत नामदेव शास्त्री को ही दे डाली धमकी

0

महाराष्ट्र की मंत्री पंकजा मुंडे का ऑडियो क्लिप सामने आने के बाद विवाद में फंस गयी हैं। आडियों क्लिप में पंकजा अहमदनगर जिले के भगवानगढ पहाड़ी मंदिर के एक पुजारी को धमकी देती सुनाई दे रही हैं।

आडियों में पंकजा परली में नामदेव शास्त्री महराज के समर्थकों के खिलाफ झूठे मामले दर्ज कराने की भी बात कहती नजर आ रही हैं। ये समर्थक उनका विरोध कर रहे हैं। बातचीत में उन्होंने कथित तौर पर कहा कि वह ग्रामीण इलाकों में छोटे छोटे कामों के वित्तपोषण वाली एक योजना 25-15 के तहत रूपया देकर किसी को भी खरीद सकती हैं।

Also Read:  केजरीवाल ने PM मोदी को लिखा पत्र, बोले- गरीबों की सब्सिडी खत्म न करें

पंकजा यह कहते सुनाई देती हैं, मैंने अपने लोगों से कहा है कि हम 11 अक्तूबर तक लड़ाई नहीं लड़ना चाहते हैं। मैं आप लोग को खरीद सकती हूं लेकिन ऐसा नहीं करना चाहती हूं। जो कुछ भी अतीत में मैंने आपको दिया है आपने मांगा और मैंने दिया। क्या आपको याद है कि मैंने 25-15 में से रूपये दिए अब मैं आपको रूपया नहीं दूंगी।

Also Read:  सहारनपुर हिंसा: भीम आर्मी के मुखिया चंद्रशेखर को इलाहाबाद हाईकोर्ट से मिली जमानत

दरअसल, भगवानगढ़ का मेला मुंडे की जाति वंजारा समुदाय का सबसे बड़ा मेला होता है, जहां लाखों वंजारी जुटते हैं। यही वंजारी वोट बैक सबसे बड़ी वजह है। पंकजा को लगता है कि वह इस जाति की सबसे बड़ी नेता हैं तो महंत को लगता है कि लोग उनके कहने पर वोट देते हैं। पहले महंत नामदेव शास्त्री दिवगंत नेता गोपीनाथ मुंडे के बहुत करीबी थे।

Also Read:  उधमपुर हमले का मास्टर माइंड अबू कासिम मारा गया

गोपीनाथ ने ही नामदेव शास्त्री को मदद करके उनको इतना बड़ा बना दिया, लेकिन गोपीनाथ मुंडे के निधन के बाद उनके ही भतीजे धनंजय मुंडे ने बगावत कर दी और एनसीपी चले गए। महंत नामदेव को भी धनंजय मुंडे ने मिला लिया इसलिए धनंजय और महंत मिलकर अब पंकजा मुंडे को चुनौती दे रहे है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here