कश्मीर मुद्दे पर UN को लिखे पत्र में पाकिस्तान ने राहुल गांधी का ही नहीं, हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर और BJP विधायक का भी किया है जिक्र

0

पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के निरस्त होने को लेकर संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष व सांसद राहुल गांधी के बयान का भी ज्रिक किया है। पाक ने यूएन को लिखे खत में राहुल गांधी के बयान का जिक्र भारत के ख़िलाफ किया था। लेकिन पाक द्वारा यूएन को लिखे पत्र में केवल राहुल गांधी अकेले ऐसे भारतीय नेता नहीं है, जिनका उस पत्र में ज्रिक किया गया है। इस पत्र में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और उत्तर प्रदेश से भजापा विधायक विक्रम सैनी का भी जिक्र किया गया है।

पाकिस्तान

पत्र में कहा गया है कि 10 अगस्त 2019 को मनोहर लाल खट्टर ने कश्मीरी लड़कियों से शादी करने को लेकर एक बयान जारी किया था। मुख्यमंत्री खट्टर ने फतेहाबाद में महर्षि भागीरथ जयंती समारोह के एक राज्य-स्तरीय समारोह को संबोधित करते हुए कथित रूप से कहा था कि, ‘पहले ओपी धनकड़ कहते थे कि हम बिहार की लड़कियों को हरियाणा में शादी के लिए लाएंगे। अब कुछ लोग कह रहे हैं कि हम कश्मीर से लड़कियां लाएंगे। लेकिन मजाक एक तरफ, हमारे समाज में लिंगानुपात सही होने के बाद ही हम संतुलन बना सकते हैं।’

वहीं, बीजेपी विधायक विक्रम सैनी ने अपने बयान में देश के मुसलमानों का जिक्र कर कहा था कि, ‘मुसलमानों को अनुच्छेद 370 के खत्म होने पर खुश होना चाहिए, क्योंकि वे अब बिना किसी डर के कश्मीरी गोरी लड़कियों से शादी कर सकते हैं। इस बयान को लेकर पाकिस्तान ने यूएन में अपने पत्र में भाजपा विधायक विक्रम सैनी का जिक्र किया है।

बता दें कि, राहुल गांधी ने कश्मीरी लड़कियों पर उनकी टिप्पणी के लिए खट्टर की निंदा की थी। जबकि दिल्ली महिला आयोग ने हरियाणा के मुख्यमंत्री के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की थी।

जम्मू-कश्मीर पर राहुल गांधी के ताजा बयान को लेकर कांग्रेस पर तीखा प्रहार करते हुए भाजपा ने बुधवार को कहा था कि कांग्रेस नेता एवं उनकी पार्टी को कश्मीर में हिंसा का आरोप लगाने के शर्मसार करने वाले गैर जिम्मेदाराना बयान के लिये देश से माफी मांगनी चाहिए, जिसका पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र जैसे मंच पर इस्तेमाल कर रहा है। भाजपा ने कहा कि राहुल पाकिस्तान के हाथों में खेल रहे हैं और उनके बयान को पड़ोसी देश संयुक्त राष्ट्र में भारत के खिलाफ इस्तेमाल कर रहा है और वे मन से नहीं बल्कि परिस्थितियों के कारण और जन दबाव में अपने बयान से पलटे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here