पाकिस्तान की सिंधु जल संधि पर चेतावनी : युद्ध या दबाव बनाने के लिए पानी का इस्तेमाल नहीं हो

0

पाकिस्तान ने सिंधु जल संधि पर विवाद का स्पष्ट जिक्र करते हुए चेतावनी दी है कि युद्ध या दबाव बनाने के माध्यम के रूप में पानी का इस्तेमाल नहीं किया जाए।

उसने इस बात पर जोर दिया कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को जल संबंधी मामलों को सुलझाने में सहयोग बनाए रखने की अनिच्छा के हर संकेत को लेकर सतर्क बनना चाहिए।

Also Read:  राष्ट्रपति चुनाव से पहले सोनिया गांधी के नेतृत्‍व में एकजुट हुआ विपक्ष, केजरीवाल ने भी मिलाया सुर
Photo courtesy: indian express
Photo courtesy: indian express

संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की राजदूत मलीहा लोधी ने जल, शांति एवं सुरक्षा पर एक खुली बहस के दौरान संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अपने संबोधन में कहा, अंतरराष्ट्रीय समुदाय को बहुपक्षीय एवं द्विपक्षीय स्तरों पर मानक ढांचों को विकसित करने और उनकी रक्षा करने की जिम्मेदारी निभानी चाहिए ताकि यह बात सुनिश्चित किया जा सके कि सभी देश जल संबंधी मामलों को सहयोगात्मक तरीके से सुलझाने की इच्छा रखें।

Also Read:  शीला दीक्षित ने केजरीवाल पर देश को 'शर्मसार' करने का आरोप लगाया, कहा उन्हें नैतिक तौर पर इस्तीफा दे देना चाहिए

भाषा की खबर के अनुसार, मलीहा ने कहा, उसे (अंतरराष्ट्रीय समुदाय को) जलमार्गों पर द्विपक्षीय एवं क्षेत्रीय समझौतों को प्रोत्साहित करना चाहिए और उनके विकसित होने के बाद यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उन्हें एकतरफा या दबाव बनाने वाले कदम उठाकर कमजोर न बनाया जाए।

Also Read:  राजस्थान के कृषि मंत्री प्रभु लाल सैनी का विवादित बयान, अगर नहीं खरीद सकते तो मत खाओ प्याज

उन्होंने भारत-पाकिस्तान सिंधु जल संधि को ऐसा मॉडल करार दिया जिसके जरिए इस बात को दर्शाया जा सकता है कि द्विपक्षीय समझौतों के जरिए क्या हासिल किया जा सकता है। विश्व बैंक इस संधि का गारंटर है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here