शाहिद अफरीदी बोले- ‘पाकिस्तान खुद के चार प्रांत नहीं संभाल सकता, कश्मीर क्या लेगा’, बाद में भारतीय मीडिया पर फोड़ा ठीकरा

0

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी ने कश्मीर को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि पाकिस्तान खुद के चार राज्य नहीं संभाल सकता वह कश्मीर क्या लेगा। अफरीदी का यह बयान अपने देश और वहां की नई सरकार के रुख के विपरीत है कि उनका देश कश्मीर पर कब्जा करना नहीं चाहता, क्योंकि वह अपने चार प्रांतों को ही संभाल नहीं पा रहा है। अफरीदी ने यह बात पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को नसीहत देते हुए यह बात कही।

सोशल मीडिया में आए एक वीडियो के अनुसार, अफरीदी ने ब्रिटिश संसद में छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि पाकिस्तान कश्मीर नहीं चाहता है। पाकिस्तान में चार प्रांतों को संभाल पाने का ही बूता नहीं है। उन्होंने कहा कि कश्मीर को आजाद कर देना चाहिए। आपको बता दें कि अफरीदी इससे पहले भी कश्मीर को लेकर बयान दे चुके हैं। वायरल वीडियो के मुताबिक, अफरीदी ने कहा कि कश्मीर भारत को सौंपने की भी जरूरत नहीं है।

उन्होंने कहा कि कश्मीर को एक आजाद मुल्क बना देना चाहिए, जिससे वहां मानवता जिंदा रह सके। कश्मीर को अपने में रहने दो। अपना रहने दो उनको। इंसानियत बड़ी चीज है, जो लोग वहां पर मर रहे हैं। चाहे वह किसी भी मजहब का हो। तकलीफ होती है इंसान के रूप में यह देखकर। पूर्व क्रिकेट कप्तान ने कहा कि कश्मीर और बाकी भारत में फैले आतंकवाद के लिए पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराया जाता है। वैश्विक समुदाय भी बार-बार हमारे देश की निंदा करता है। हमे यह सब खत्म करना चाहिए।

बाद में दी सफाई

इस मुद्दे पर बाद में सफाई देते हुए शाहिद अफरीदी ने लिखा मेरी टिप्पणी को भारतीय मीडिया द्वारा गलत तरीके से पेश किया जा रहा है। मैं अपने देश के बारे में भावुक हूं और कश्मीरियों के संघर्षों को बहुत महत्व देता हूं। मानवता को जीतना चाहिए और उन्हें अपने अधिकार प्राप्त करना चाहिए। उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा कि मेरी क्लिप अधूरी और संदर्भ से बाहर जो मैंने पहले कहा था वह गायब है।

कश्मीर पर पहले भी दे चुके हैं बयान

आपको बता दें कि यह पहली बार नहीं है जब शाहीद अफरीदी ने कश्मीर को लेकर बयान दिया हो। इससे पहले अप्रैल में भी उन्होंने कश्मीर के बहाने भारत पर निशाना साधा था। इस दौरान अफरीदी ने ट्वीट में जम्मू-कश्मीर में सेना के आतंकरोधी अभियान के तहत मारे गए 13 आतंकियों से हमदर्दी जताई थी। उन्होंने आगे लिखा था कि कश्मीर की स्थिति बेचैन करने वाली और चिंताजनक है। यहां आत्मनिर्णय और आजादी की आवाज को दबाने के लिए दमनकारी शासन द्वारा निर्दोषों को मार दिया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here