क्‍लास रूम की सफाई से इनकार करने पर नाराज टीचरों ने छात्रा को छत से नीचे फेंका, टूटी रीढ़ की हड्डी

0
Follow us on Google News

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में ‘कक्षा की सफाई करने से’ इनकार करने वाली 14 साल की एक लड़की को उसकी दो शिक्षिकाओं ने स्कूल की इमारत की छत से कथित तौर पर धक्का दे दिया। यह जानकारी मीडिया में आई एक रिपोर्ट में दी गई है।

photo- Sunuker.com

पीटीआई की ख़बर के मुताबिक, नौवीं कक्षा की छात्रा फज्जर नूर लाहौर के घुरकी अस्पताल में जिंदगी की जंग लड़ रही है। उसकी हड्डियां कई जगह से टूट गई हैं और उसकी रीढ़ की हड्डी भी टूट गई है। नूर ने होश में आने पर डॉन न्यूज से कहा, ‘‘मेरी कक्षा की शिक्षिकाओं बुशरा और रेहाना ने मुझे कक्षा की सफाई करने का आदेश दिया क्योंकि (23 मई) को कक्षा की सफाई करने की बारी मेरी थी।

मैंने उन्हें कहा कि मैं स्वस्थ महसूस नहीं कर रही और किसी अन्य दिन सफाई कर दूंगी। इस पर वे मुझे एक दूसरे कमरे में ले गईं और मुझे थप्पड़ मारने शुरू कर दिए। इसके बाद वे मुझे छत पर ले गईं और मुझे छत साफ करने का आदेश दिया, जब मैंने अपनी बात रखी तो उन्होंने मुझे छत से धक्का दे दिया।’’

यह घटना शाहदरा के कोट शाहाबदीन स्थित सिटी डिस्ट्रिक्ट गवर्नमेंट गर्ल्स स्कूल की है। शिक्षिकाओं के खिलाफ हत्या की कोशिश का मामला दर्ज किया गया है। पंजाब के शिक्षा सचिव (स्कूल) अल्लाह बख्श मलिक ने कहा कि वरिष्ठ शिक्षिकाओं रेहाना कौसर और बुशरा तूफैल ने पहले फज्जल नूर को पीटकर उसे सजा दी और इसके बाद वे उसे स्कूल की इमारत की सबसे ऊपरी यानी तीसरी मंजिल पर ले गईं और वहां से उसे धक्का देकर नीचे फेंक दिया।

मलिक ने कहा, ‘‘यह घटना 23 मई की है लेकिन स्कूल प्रशासन और कुछ अन्य अधिकारियों ने इसे शिक्षा विभाग से छिपाकर रखा।’’ मलिक ने कहा, ‘‘हमें शनिवार शाम को इस घटना का पता चला। इस मामले में विभागीय जांच शुरू कर दी गई है और यह मामला पूर्ण जांच के लिए मुख्यमंत्री जांच दल को भेज दिया गया है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुख्यमंत्री ने यह घटना छिपाने के कारण जिला शिक्षा प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अहसान मलिक, उप डीईओ तैयबा बट और प्राचार्या नगमाना इरशाद को तत्काल निलंबित कर दिया है। दोनों शिक्षिकाओं को भी निलंबित कर दिया गया है और उनके खिलाफ पंजाब कर्मचारी दक्षता एवं अनुशासन कानून के तहत मामला चलाया जाएगा।’’

नूर की मां रुखसाना बीबी ने कहा, ‘‘हालांकि मलिक हमसे मिलने आए और हमारी चिंताओं को कम करने की कोशिश की। मुख्यमंत्री को आकर मेरी बेटी की हालत देखनी चाहिए, वह तेज दर्द से जूझ रही है।’’ शाहदरा टाउन की पुलिस ने शिक्षिकाओं के खिलाफ धारा 324 (हत्या का प्रयास) के तहत प्राथमिकी दर्ज कर ली है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here