इस बार राष्ट्रपति ने कई गुमनाम चेहरों को पद्म सम्मान से किया सम्मानित

0

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्यों के लिये पद्म सम्मान से चयनित 44 लोगों को पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री सम्मान से नवाजा।

पद्म भूषण

इस बार पद्मश्री से सम्मानित लोगों की सूची में ऐसे तमाम गुमनाम चेहरे भी शामिल थे जो लोकप्रियता की चकाचौंध से दूर शिक्षा, संगीत, साहित्य और समाजसेवा के क्षेत्र में अपना योगदान दे रहे थे। राष्ट्रपति भवन में आज आयोजित सम्मान समारोह में मुखर्जी ने आध्यात्मिक गुर सदगुर जगदीश वासुदेव और गायक केजे यशुदास सहित 44 लोगों को ज्ञान, विज्ञान, साहित्य, संगीत और कला सहित विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य के लिये सर्वोच्च नागरिक सम्मान के तौर पर दिये जाने वाले पद्म पुरस्कारों से सम्मानित किया।

भाषा की खबर के अनुसार, इस श्रेणी में अप्रतिम और उत्कृष्ट सेवाओं के लिये दिये जाने वाले सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण के लिये इस साल सात लोगों को चुना गया था। इस श्रेणी में मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री सुंदर लाल पटवा को मरणोपरांत पद्म विभूषण से आज नवाजा गया। दिवंगत पटवा की धर्मपत्नी ने राष्ट्रपति मुखर्जी से सम्मान ग्रहण किया।

चो एस रामास्वामी को साहित्य, शिक्षा और पत्रकारिता के क्षेत्र में :मरणोपरांत: काशी विश्वनाथ मंदिर के आचार्य देवीप्रसाद द्विवेदी को साहित्य और शिक्षा के क्षेत्र में, वाद्ययंत्र मोहनवीणा के आविष्कारक विश्वमोहन भट्ट को कला एवं संगीत के क्षेत्र में और जैन धर्मगुर जैनाचार्य रत्नासुंदेरसुरी महाराज को आध्यात्म के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया।

सम्मान समारोह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रीय मंत्रिमंडल के अनेक मंत्री और लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन भी मौजूद थीं। पदश्री से सम्मानित चर्चित चेहरों में क्रिकेटर विराट कोहली, ओलंपियन दीपा कर्मकार, साक्षी मलिक, शेफ संजीव कपूर, पूर्व विदेश सचिव कंवल सिब्बल और गायक कैलाश खेर शामिल रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here