पीएम मोदी की जनसंख्या नियंत्रण सहित इन तीन बातों की पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम ने की तारीफ

0

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए संबोधन की तीन बातों का शुक्रवार (16 अगस्त) को स्वागत किया जिनमें जनसंख्या नियंत्रण प्रमुख है।आम तौर पर पी. चिदंबरम पीएम मोदी और उनकी सरकार की बड़े आलोचकों के तौर पर जाने जाते हैं। लेकिन अब उनका पीएम मोदी के भाषण की तारीफ करना कई लोगों को हैरान कर सकता है।

पी चिदंबरम
फाइल फोटो

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा, “हम सभी को स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री की ओर से कही गई तीन बातों का स्वागत करना चाहिए।” कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चिदंबरम ने मोदी की इन तीन बातों का उल्लेख करते हुए कहा, “छोटा परिवार होना देशभक्तिपूर्ण कर्तव्य है। पूंजी का सृजन करने वालों का सम्मान होना चाहिए। एक बार इस्तेमाल हो चुके प्लास्टिक का उपयोग नहीं होना चाहिए।”

उन्होंने कहा कि पहली और तीसरी बात (जनसंख्या नियंत्रण और सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग नहीं करना) को जन आंदोलन का रूप लेना चहिए। पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम ने यह भी कहा, “मैं आशा करता हूं कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और उनके कर अधिकारियों और जांच अधिकारियों ने प्रधानमंत्री की दूसरी बात (पूंजी सृजन करने वालों का सम्मान) को स्पष्ट रूप से सुना होगा।”

उन्होंने यह टिप्पणी ‘कैफे कॉफी डे’ के संस्थापक वीजी सिद्धार्थ की खुदकुशी की घटना और कुछ उद्योगपतियों द्वारा कर अधिकारियों पर कथित उत्पीड़न के आरोप के संदर्भ में की।

मोदी ने अपने भाषण में कहा था कि जनसंख्या विस्फोट हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए कई समस्याएं पैदा करेगा। प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में कहा था, “लेकिन जनता का एक जागरूक तबका है, जो एक बच्चे को दुनिया में लाने से पहले सोचता है कि क्या वे बच्चे के साथ न्याय कर सकते हैं, क्या उन्हें वह सब दे सकते हैं जो बच्चा चाहता है या चाहती है। जिनका एक छोटा परिवार है, वह भी एक तरह से अपनी देशभक्ति व्यक्त करते हैं। आइए उनसे सीखते हैं। सामाजिक जागरूकता की आवश्यकता है।”

संपत्ति सृजन करने वालों के बारे में मोदी ने कहा कि धन सृजन एक महान राष्ट्रीय सेवा है। सिंगल यूज वाले प्लास्टिक के उन्मूलन के बारे में, पीएम मोदी ने कहा था कि ये पर्यावरण के लिए गंभीर खतरा हैं और कहा कि 2 अक्टूबर तक एक महत्वपूर्ण कदम सामने आना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here