ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने ‘आंग सान सू’ की तस्वीर को हटाया

0

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने बर्मा की सेना द्वारा रोहिंग्या मुसलमानों पर हुए जातीय नरसंहार की निंदा के बीच नोबेल पुरस्कार विजेता ‘आंग सान सू’ की एक तस्वीर को हटा दिया है। नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित सू ची इन दिनों रोहिंग्या मुस्लिमों पर म्यांमार सेना के कथित अत्याचारों की वजह से आलोचनाओं का सामना कर रही हैं।

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय

विश्वविद्यालय ने इस तस्वीर को एक जापानी कलाकार योशिहिरो टकाडा द्वारा बनाया गया ये पोट्रेट कॉलेज के मुख्य द्वार पर लगा था। वहीं संचार प्रबंधक बिन्यामीन जोन्स ने कहा कि इस तस्वीर को “सुरक्षित स्थान” में ले जाया गया है। विश्वविद्यालय ने सू की पेंटिंग को हटाने के कारण टिप्पणी नहीं करने का फैसला किया है।

विश्वविद्यालय ने सू की पेंटिंग को हटाने के कारण टिप्पणी नहीं करने का फैसला किया है। सुक़ी को पूर्व में ओकफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा सम्मानित किया गया था। विश्वविद्यालय ने कहा है कि यह उस पर दिए गए डिग्री को हटाने पर विचार नहीं कर रहा है।

बांग्लादेश की सीमा के किनारे स्थित रक्षणी राज्य में बर्मा सेना और बौद्ध आतंकवादियों द्वारा रोहिंगियों के लगातार नरसंहार में उनकी भूमिका के लिए सू एक पूर्व राजनीतिक कैदी की व्यापक निंदा की गई थी। 2015 में चुनाव जीतने के बाद से वह म्यांमार के वास्तविक नेता रहे हैं। बता दें कि, इस महीने की शुरुआत में उन्होंने का था कि उसे “अंतर्राष्ट्रीय जांच” से डर नहीं था।

बता दें कि, बर्मा के रखाइन राज्य में करीब 4 लाख रोहिंग्या मुसलमान उत्पीड़न से बचने के लिए, बांग्लादेश के अस्थायी शरणार्थी शिविरों में आकर बस चुके हैं। संयुक्त राष्ट्र ने भी इसे दुनिया में सबसे अधिक सताया जाति की ‘जातीय सफाई’ कहा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here