ओवैसी ने BJP अध्यक्ष अमित शाह को हैदराबाद से चुनाव लड़ने की दी चुनौती

0

एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को हैदराबाद लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने की चुनौती देते हुए हैदराबाद सीट पर जीत दर्ज करने की उनकी बात पर कहा कि ऐसा करना खालाजी का घर नहीं है।

फोटो: Telangana Today

हैदराबाद से सांसद ओवैसी ने कहा कि उनकी पार्टी सुनिश्चित करेगी कि सिकंदराबाद लोकसभा निर्वाचन सीट और शहर में भगवा दल की पांच विधानसभा सीटों से बीजेपी को शिकस्त मिले। बता दें कि सिकंदराबाद लोकसभा सीट से केंद्रीय मंत्री बंडारू दत्तात्रेय सांसद हैं।

उन्होंने कहा कि आप (भाजपा) हैदराबाद में चुनाव लड़ना चाहते हैं, आपका स्वागत है लेकिन आप किसी अन्य को मैदान में खड़ा करने की योजना क्यों बना रहे हैं? आप (शाह) आईए और लड़िए। शाह ने कथित बयान दिया था कि बीजेपी यह सीट जीतेगी।

हैदराबाद से तीन बार सांसद चुने गए ओवैसी ने इस बयान का जिक्र करते हुए जनसभा में कहा कि हैदराबाद की सीट जीतेंगे। क्या यह खाला जी का घर है? हमने कई वर्षों तक यहां काम किया है। ओवैसी ने शाह के इस दावे को बेतुका बताया कि भाजपा वर्ष 2019 विधानसभा चुनाव में तेलंगाना में सरकार बनाएगी।

उन्होंने कहा कि आप सपने देख रहे हैं। शाह की तेलंगाना की तीन दिवसीय यात्रा को लेकर ओवैसी ने कहा कि बीजेपी अध्यक्ष तेलंगाना के दौरे पर हैं। तेलंगाना के लिए अचानक प्यार उमड़ आया है। उन्होंने कहा कि शाह नालगोंडा गए और एक दलित के घर भोजन किया। इसके बारे में मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने कहा कि यह भोजन एक सवर्ण समुदाय के सदस्य ने बनाया था।

ओवैसी ने कहा कि आपका (शाह) प्यार कैसा है? आपने दलितों के आवासों पर भोजन किया जिसे किसी अन्य ने तैयार किया था। (बीआर) आम्बेडकर के प्रति आपका कैसा प्यार है? उन्होंने शाह के इस दावे को खारिज किया कि केंद्र ने तेलंगाना को एक लाख करोड़ रुपये आवंटित किए।आवैसी ने कहा कि ठीक है, यदि आपने (एक लाख करोड़ रपए) दिए तो क्या आपने ये अपनी जेब से दिए। हम भिखारी नहीं हैं। यह (केंद्रीय फंड) पाना हमारा (तेलंगाना का) संवैधानिक अधिकार है। तेलंगाना सरकार का हक है कि उसे एक लाख करोड़ नहीं, बल्कि 10 लाख करोड़ रुपये दिए जाएं।

इस बीच ओवैसी की चुनौती का जवाब देते हुए बीजेपी नेता जी कृष्ण रेड्डी ने हैदराबाद सांसद को उनके निर्वाचन क्षेत्र अम्बरपेट से चुनाव लड़ने की चुनौती दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here