VIDEO: बीजेपी शासित राज्य असम में हिंदुत्व आतंकियों ने की मुस्लिम शख्स की पिटाई, सूअर का मांस खाने को किया मजबूर

0

कथित गोरक्षकों के भेष में हिंदुत्व आतंकियों का उत्पात और भीड़ द्वारा पीट-पीटकर मार डालने की घटनाएं रुकने का नाम ही नहीं ले रहीं है, जिसका ताजा मामला एक बार फिर से देखने को मिला है। बीजेपी शासित राज्य असम में हिंदुत्व के आतंकवादियों ने कथित रूप से बीफ बेचने के लिए एक मुस्लिम व्यक्ति पर हमला किया और उसे सुअर का मांस खाने के लिए मजबूर किया। इतना ही नहीं इस दौरान लोगों की भीड़ ने मुस्लिम शख्स से कड़ी पूछताछ भी की।

असम

राज्य की बीजेपी सरकार को रिपोर्ट करने वाली पुलिस ने पीड़ित की शिकायत के बाद मामला दर्ज किया है। पीड़ित व्यक्ति की पहचान शौकत अली के रूप में हुई है। घटना से जुड़े दो वीडियो भी सामने आए है जो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहे है, जिसमें वह घुटनों पर बल बैठकर भीड़ से छोड़ने की भीख मांगता दिख रहा है।

वीडियो में पीड़ित शख्स कीचड़ में बैठा दिखाई दे रहा है और लोगों की गुस्साई भीड़ ने उसे चारों तरफ से घेरा हुआ है। इस दौरान लोगों की भीड़ पीड़ित शख्स से उसकी राष्ट्रीयता को लेकर सवाल पूछ रहे हैं कि क्या वह बांग्लादेशी है? क्या तुम्हारा नाम एनआरसी (नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन्स) में है?

कथित तौर पर यह घटना 7 अप्रैल को असम के एक साप्ताहिक ग्रामीण बाजार में हुई। जहां अली एक भोजनालय की दुकान चलाता है और वह मांस भी बेचता है। घटना का वीडियो सामने आने के बाद देशभर के राजनेताओं और नागरिक समाज के सदस्यों ने अपनी नराजगी जताते हुए गुस्सें में अपनी प्रतिक्रिया दे रहें है।

CPI-M के सांसद मोहम्मद सलीम और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लमिन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असादुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर इस घटना की निंदा की है।

CPI-M के सांसद मोहम्मद सलीम ने ट्विटर पर लिखा, CPI-M के सांसद मोहम्मद सलीम ने ट्विटर पर लिखा कि असम में गोमांस का सेवन अवैध नहीं है। कोकराझार जैसी जगहों पर गैर-मुस्लिम समुदाय बीफ खाते हैं। इन गुंडों को गायों की परवाह नहीं है, उन्हें केवल मुसलमानों के खिलाफ अपनी घृणा फैलाने के लिए एक बहाना चाहिए।

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लमिन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असादुद्दीन ओवैसी ने लिखा, मैं ऐसे कई लोगों को जानता हूं जो महसूस करते हैं कि पिछले 5 वर्षों में लिंचिंग की संख्या के कारण वे निराश हैं। मैं नहीं हूं, प्रत्येक वीडियो मुझे प्रभावित करता है और मुझे दुखी करता है। यह असंगत है कि असम में गोमांस वैध है, भारत के हर हिस्से में एक निर्दोष बूढ़े व्यक्ति को पीटना अवैध है।

बता दें कि पिछले कुछ वर्षों में देश के अलग-अलग हिस्सों में बीफ के चलते मॉब लिंचिंग में कई लोगों की जानें जा चुकी हैं। मॉब लिंचिंग की घटनाओं को लेकर सरकार कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी दलों के निशाने पर है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here