बीजेपी शासित झारखंड में एक और मॉब लिंचिंग: गोकशी के शक में भीड़ ने 3 लोगों को बुरी तरह पीटा, एक की मौत

0

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) शासित झारखंड में मॉब लिंचिंग की घटनाएं रुकने का नाम ही नहीं ले रही हैं। झारखंड के खूंटी जिले में भीड़ ने गोकशी के संदेह में शारीरिक रूप से अक्षम एक व्यक्ति की कथित तौर पर पीट-पीटकर हत्या कर दी जबकि दो अन्य को बुरी तरह से घायल कर दिया। यह घटना रविवार (22 सितंबर) सुबह करीब 10 बजे हुई।

उत्तर प्रदेश
फाइल फोटो: सोशल मीडिया

पुलिस के एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि स्थानीय लोगों ने रविवार को कथित तौर पर कालांतस बारला, फागू कच्छप और फिलिप होरो को जलतांगा गांव में नदी के निकट मृत गाय के साथ देखा और उनकी पिटाई कर दी। बारला की अस्पताल ले जाते वक्त मौत हो गई, बाकी दोनों का रांची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में इलाज चल रहा है। पुलिस ने बताया कि पांच लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है।

घटना के बाद ग्रामीणों ने हिरासत में लिए गए लोगों की रिहाई की मांग को लेकर कारा पुलिस थाने का घेराव किया। उप संभागीय पुलिस अधिकारी रुषभ ने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि निर्दोष पाए जाने पर उन लोगों को छोड़ दिया जाएगा, जिसके बाद घेराव खत्म किया गया।

डीआईजी अमोल वेनुकट होमकर ने बताया कि पांच लोगों को हिरासत में लिया गया है और शुरुआती जांच में घटना में उनकी लिप्तता सामने आई है। पहचान करने की प्रक्रिया चल रही है। उन्होंने कहा कि घटनास्थल की जांच में पुलिस को वहां से मृत गाय नहीं मिली लेकिन भीड़ द्वारा लोगों को पीटने के सबूत जरूर मिले हैं। उन्होंने बताया कि अब तक किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया गया है।

बता दें कि, झारखंड में मॉब लिंचिंग का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले जून 2019 में 22 वर्षीय तबरेज अंसारी नाम के एक युवक को बाइक चोरी के शक में पीट-पीटकर मार डाला गया था। अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी। तबरेज पूना में वेल्डर का काम करता था और घटना के समय अपने गांव आया हुआ था। यह मामला एक वीडियो के वायरल होने के बाद प्रकाश में आया था। इस वीडियो में आरोपी, अंसारी को पीटते हुए दिख रहे थे।

वायरल वीडियो में ग्रामीण पेड़ से बंधे अंसारी को बेरहमी से पीटते हुए नजर आ रहे थे। साथ ही वीडियो में तबरेज से जबरन ‘जय श्री राम’ कहलवाने की कोशिश की जा रही है। तबरेज को एक पोल से बांधा गया और फिर उसे बुरी तरह से पीटा गया। इसके साथ ही जबरन उससे ‘जय श्री राम’ और ‘जय हनुमान’ के नारे लगवाए गए। उसके बेहोशी हालत में ही उसे पुलिस को सौंप दिया गया, पुलिस हिरासत में चार दिन बाद उसकी मौत हो गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here