कोलकाता: ‘जय श्रीराम’ नहीं बोलने पर मदरसा शिक्षक को चलती ट्रेन से फेंकने के मामले में एक गिरफ्तार, ममता देंगी मुआवजा

0

पश्चिम बंगाल में एक मदरसे के शिक्षक ने शिकायत दर्ज कराई है कि ‘जय श्री राम’ नहीं बोलने की वजह से कुछ लोगों के एक समूह ने उसे पीटा और चलती ट्रेन से धक्का दे दिया। पश्चिम बंगाल के कोलकाता की एक ट्रेन में कथित रूप से ‘जय श्रीराम’ का नारा लगाने से कथित रूप से इनकार करने पर ट्रेन से धकेल दिए पर घायल हुए तीन लोगों को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को मुआवजा देने की घोषणा की।

कोलकाता में सोमवार को एक चलती ट्रेन से मदरसा शिक्षक और दो अन्य को कथित रूप से धक्का दे दिया गया था।समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक, ममता बनर्जी ने पत्रकारों को बताया, ”मैंने पीड़ितों से बात की है और तीनों के लिए 50-50 हजार रुपये के मुआवजे की घोषणा की है। हमलोग ऐसी घटनाओं की निंदा करते हैं और मामले में पुलिस सख्त कार्रवाई करेगी। हम राज्य में ऐसी चीजें नहीं होने देंगे।

घटना में मामूली रूप से जख्मी हुए हाफिज मोहम्मद शाहरुख हलदर ने कहा, ”कुछ लोगों के समूह ने मुझ पर और दो अन्य पर हमला किया। हमलोगों को पीटा गया और फिर हम सभी को पार्क सर्कस रेलवे स्टेशन पर ट्रेन से बाहर फेंक दिया गया। ममता बनर्जी ने भाटपाड़ा राजनीतिक हिंसा के पीड़ितों के लिए भी मुआवजे की घोषणा की।

दरअसल, पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना जिले के 26 वषीर्य मदरसा शिक्षक हफीज मोहम्मद शाहरुख हलदर ने कहा कि उन पर हमला बीती गुरुवार को हुआ, जब वह ट्रेन से कैनिंग से हुगली जा रहे थे। अधिकारी ने कहा कि हलदर ने सोमवार को बालीगंज जीआरपीएस में अज्ञात लोगों के खिलाफ लिखित शिकायत दर्ज कराई है।

वहीं, रेलवे पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि हलदर को ‘मामूली चोटें’ लगी थीं और उन्हें पास के सरकारी अस्पताल में ले जाया गया था। हिंसा के सिलसिले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। धारा 341, 323, 325, 506 और 34 के तहत बल्लीगंज रेलवे स्टेशन पर अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here