एक बार फिर शर्मसार हुई दिल्ली: अगवा कर डेढ़ साल की मासूम का रेप, स्वाति मालीवाल बोलीं- केंद्र धृतराष्ट्र की तरह आंख बंद कर बैठा है

0

देश की राजधानी दिल्ली में इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है। उत्तरी दिल्ली में एक युवक ने मां के साथ फुटपाथ पर सो रही करीब डेढ़ साल की एक बच्ची को अगवा कर उसके साथ बलात्कार की घटना को अंजाम दिया। बच्ची को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। फिलहाल, पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया गया है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बताया जा रहा है कि चांदनी चौक के शीशगंज गुरुद्वारा के पास बच्ची माता-पिता के साथ शुक्रवार की रात फुटपाथ पर सो रही थी। यहीं से दरिंदों ने डेढ़ साल की मासूम का अपहरण कर उसके साथ बलात्कार किया। इसके बाद आरोपी ने पीड़ित बच्ची को पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन के पार्सल गोदाम के पास तड़पता हुआ छोड़कर फरार हो गए। पीड़ित बच्ची के निजी अंग से खून बह रहा था और चेहरे के साथ शरीर पर दांत काटने के जख्म थे।

बाद में किसी राहगीर ने बच्ची को रेलवे ट्रैक पर देखा, तो उसने पुलिस को इस बात की सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने बच्ची को अस्पताल में एडमिट कराया फिर आरोपी की तलाश में जुट गई। पुलिस ने घटनास्थल के आस पास लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज के आधार पर एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। आरोपी की पहचान अनिल (25) के तौर पर हुई है। आरोपी कूड़ा बीनता है और नशे का आदी है।

पुलिस के मुताबिक, पीड़ित बच्ची अपने परिजनों के साथ बवाना इलाके में रहती है। उसके पिता चांदनी चौक में रिक्शा चलाते हैं, जबकि उसकी मां कूड़ा बीनती है। रविवार की शाम करीब पांच बजे बच्ची को देखने के लिए दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल पहुंची। उन्होंने काफी वक्त हॉस्पिटल में बिताया।

पीड़ित बच्ची से मिलने के बाद स्वाति ने ट्विटर पर लिखा, “1.5 साल की बच्ची के नन्हे हाथ जिसके साथ दिल्ली में बर्बरता से रेप हुआ। सुन्न पड़ गयी उसकी हालत देख। कैसी घटिया मानसिकता है। ऐसे जानवरों को तुरंत फांसी देनी चाहिए। पर केंद्र धृतराष्ट्र की तरह आंख बन्द कर बैठा है। समझ नही आता सरकार को जगाने के लिए अनशन तक किया, अब क्या करूँ?”

वहीं एक बयान में स्वाति ने कहा, “डेढ़ साल की बच्ची है जिसका रेप हुआ है, वह रो रही है उसके सिसकियां सुन लीजिएगा तो आपको नींद नहीं आएगी, मेरे रोंगटे खड़े हो गए मुझे रोना आ रहा है। कानून बनने के बाद भी आज तक क्यों नहीं बलात्कारियों को फांसी की सजा हो रही, आज तक निर्भया की मां को भी इंसाफ नहीं मिला”।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here