NSG में विदेशनीति की विफलता पर कांग्रेस ने प्रधानमंत्री पर हमला तेज़ किया, कहा मोदी ने खुद का और देश का तमाशा बना दिया है

1

NSG में भारत को मिली विफलता पर प्रधानमंत्री विपक्षी पार्टियों के चौतरफे हमले से घिर गए हैं। कोईं उनके विदेश दौरे का मज़ाक़ उड़ा रहा है तो तो कुछ लोगों का मानना है की मोदी विदेश नीति में बुरी तरह फेल हो गए हैं।

भाषा की खबर के अनुसार परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) की सोल में हुई बैठक के दौरान भारत की सदस्यता के आवदेन पर कोई निर्णय नहीं किए जाने को ‘भारत के लिए शर्मनाक’ बताते हुए कांग्रेस ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ये समझने की जरूरत है कि कूटनीति में ‘गहराई और गंभीरता की आवश्यकता होती है सार्वजनिक स्तर पर तमाशे’ की नहीं।

Also Read:  राज ठाकरे ने कहा- अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद के साथ डील कर रही है मोदी सरकार

पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता आनन्द शर्मा ने कहा, ‘हमें नहीं पता कि एनएसजी सदस्यता के मुद्दे पर भारत ने अपनी हताशा क्यों जाहिर की और देश की तुलना पाकिस्तान से क्यों होने दी।’ उन्होंने कहा, ‘अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को यह महसूस करना चाहिए कि कूटनीति में गंभीरता और गहराई की जरूरत होती है।
Anand-Sharma-620x400

प्रधानमंत्री मोदी को यह समझने की जरूरत है कि कूटनीति में गंभीरता की जरूरत होती है सार्वजनिक स्तर पर तमाशे की नहीं।’ शर्मा ने संवाददाताओं से कहा, ‘पूरे विश्व ने देखा कि प्रधानमंत्री ने खुद को और भारत को तमाशा बना दिया। अब भारत को अनावश्यक रूप से शर्मिंदगी झेलनी पड़ रही है।’ उन्होंने कहा कि संबद्ध देशों को अपने पक्ष में करने के लिए मोदी सरकार द्वारा किया गया इतना अधिक प्रयास गैर-जरूरी था। शर्मा ने कहा, ‘हम लोगों का मानना है संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की सदस्यता के लिए प्रधानमंत्री मोदी और उनकी सरकार को इतनी अधिक पैरवी करनी चाहिए थी।

Also Read:  दिल्ली : बैंकों ने नोट बदलवाने वालों की उंगली पर स्याही का इस्तेमाल शुरू किया

एनएसजी देशों के बीच परमाणु व्यापार में जब कोई बाधा नहीं है तो ऐसे में ये अनावश्यक था।’ सोल में 48 सदस्यीय परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह की पूर्ण बैठक शुक्रवार (24 जून) समाप्त हो गई। इसमें भारत की सदस्यता के आवेदन पर कोई निर्णय नहीं किया जा सका क्योंकि परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर नहीं करने वाले देशों को सदस्यता देने पर मतभेद थे और चीन ने सदस्यता प्राप्त करने को लेकर भारत की मुहिम का विरोध करने वाले देशों का नेतृत्व किया।

Also Read:  दादरी का सच, गौरक्षा या फिर सामाजिक दिखावा ?

1 COMMENT

  1. Mr Modijee, your Bubble is on the way to burst very soon, unfortunately the middle class public who is worshipping Modi, day and night, is yet to understand it, ironically these same middle class crowd is the greatest beneficiary of India’s economic success so far! In Hindi it is called ‘ Beimani ‘,
    meaning worst level of ungratefulness !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here