कल फिर खुलेंगे सबरीमाला मंदिर के कपाट, हिंदू संगठन बोले- रिपोर्टिंग के लिए महिला पत्रकारों को न भेजें मीडिया संस्थान

0

केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर जारी घमासान के बीच भगवान अयप्पा का मंदिर एक बार फिर चर्चा में हैं। दरअसल, भारी विरोध के बीच कल यानी सोमवार (5 नवंबर) को एक बार फिर मासिक पूजा के लिए मंदिर के कपाट खुलेंगे और पूजा-अर्चना होगी। इस बीच कई हिंदू संगठनों ने रिपोर्टिंग के लिए युवा महिला पत्रकारों को सबरीमाला नहीं भेजने की मीडिया संस्थानों से अपील की है। मंदिर में 10 से 50 आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश को मंजूरी देने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद दूसरी बार मंदिर खुलेगा।

File Photo: Indian Express

इस बीच समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं के प्रवेश के खिलाफ आंदोलन कर रहे कई हिंदू संगठनों ने मीडिया संगठनों से इस मुद्दे को कवर करने के लिए महिला पत्रकारों को न भेजने के लिए कहा है। विश्व हिंदू परिषद और हिंदू ऐक्यवेदी समेत दक्षिणपंथी संगठनों के संयुक्त मंच सबरीमाला कर्म समिति ने यह अपील जारी की है। समिति कोर्ट के आदेश के खिलाफ आंदोलन का नेतृत्व कर रही है।

पिछले महीने जब मंदिर पांच दिनों की मासिक पूजा के लिए खुला था तब रिपोर्टिंग करने पहुंची महिला पत्रकारों से बदसलूकी की गई थी। उनके गाड़ियों को निशाना बनाया गया और प्रदर्शनकारियों के कारण उन्हें वापस लौटने पर मजबूर होना पड़ा। संपादकों को लिखे पत्र में समिति ने कहा कि इस आयु वर्ग की महिलाओं के अपने काम के सिलसिले में मंदिर में प्रवेश करने से स्थिति और बिगड़ सकती है। इस पत्र की एक प्रति मीडिया को भी जारी की गई है।

पीटीआई के मुताबिक, इसमें कहा गया है, ‘‘इस मुद्दे पर श्रद्धालुओं के रुख का समर्थन या विरोध करने के आपके अधिकार को पहचानते हुए हम उम्मीद करते हैं कि आप ऐसा कोई कदम नहीं उठाएंगे जिससे स्थिति और बिगड़े।’’ समिति ने कहा है कि श्रद्धालुओं के पास शांतिपूर्ण प्रदर्शन जारी रखने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है।

त्रावणकोर के आखिरी राजा चिथिरा थिरुनल बलराम वर्मा का मंगलवार को जन्मदिन है। इस अवसर पर सोमवार शाम को पूजा के लिए मंदिर खोला जाएगा। मंदिर मंगलवार को रात 10 बजे बंद किया जाएगा। इसके बाद 17 नवंबर से तीन महीने लंबी वार्षिक तीर्थयात्रा के लिए इसे फिर से खोला जाएगा।

पुलिस ने मंदिर सहित पूरे इलाके को अपने अपने नियंत्रण में लिया

केरल के सबरीमाला कस्बे को शनिवार को पूरी तरह पुलिस ने अपने नियंत्रण में ले लिया। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि स्थित प्रसिद्ध भगवान अयप्पा मंदिर पांच नवंबर को पूरे दिन के लिए खुलेगा, जिसके कारण कस्बे को नियंत्रण में ले लिया गया है। पथनामथित्ता जिला पुलिस अधीक्षक टी. नारायण ने समाचार एजेंसी से कहा कि मंदिर कस्बे में 1,500 पुलिस अधिकारियों को तैनात कर दिया गया है और ये छह नवंबर मध्यरात्रि तक यहां तैनात रहेंगे, जब तक मंदिर फिर से बंद नहीं हो जाता है।

उन्होंने कहा कि फिलहाल किसी महिला ने मंदिर में प्रवेश करने का अनुरोध नहीं किया है। नारायण ने कहा, “अगर कोई अनुरोध करता है, तो पुलिस शीर्ष अदालत के फैसले के मुताबिक आगे बढ़ेगी। श्रद्धालुओं के अलावा किसी को भी मंदिर के प्राधिकृत इलाके में जाने की इजाजत नहीं दी जाएगी।” सुरक्षा इंतजामों पर अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अनिल कांत द्वारा निगरानी रखी जाएगी।

पुलिस के मुताबिक, पांबा आधार शिविर से मंदिर जाने वाले रास्ते और मंदिर के गर्भ-गृह के करीब इलाके में किसी को भी जाने की इजाजत नहीं दी जाएगी मीडिया के लिए भी बंदिशें सख्त कर दी गई हैं और उन्हें केवल पांच नवंबर को ही मंदिर कस्बे पहुंचने की इजाजत दी जाएगी। शनिवार तक पुलिस ने 536 मामले दर्ज किए हैं और 3,719 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें से केवल करीब 100 लोग ही जेल में हैं, जबकि बाकियों को जमानत मिल गई है।

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने पिछले महीने केरल के भगवान अयप्पा के मंदिर में महावारी आयु वाली महिलाओं के प्रवेश पर लगी पाबंदी हटा दी थी। सबरीमला मंदिर की पुरानी परंपरा के अनुसार 10 से 50 वर्ष की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं थी। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने पिछले दिनों मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं के प्रवेश पर लगी पाबंदी को खत्म कर दिया था। हालांकि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बावजूद अब भी महिलाओं को मंदिर में नहीं जाने दिया जा रहा है।

Pizza Hut

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here