PNB महाघोटाला: ‘चोरी’ के बाद सीनाजोरी पर उतरा नीरव मोदी, बैंक का कर्ज चुकाने से किया इनकार

0

पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में 11,300 हजार करोड़ रुपये से अधिक के घपले का खुलासा होने के बाद राजनीति शुरू हो गई है। इस बीच देश के बैंकिंग इतिहास की सबसे बड़ी बैंक धोखाधड़ी का मुख्य सूत्रधार नीरव मोदी करोड़ों की ‘चोरी’ के बाद अब सीनाजोरी पर उतर आया है। नीरव मोदी ने पीएनबी को चिट्ठी लिखकर पहली बार अपनी बात कही है। इस चिट्ठी में नीरव मोदी ने सीनाजोरी करते हुए साफ शब्दों में बैंक का कर्ज चुकाने से इनकार कर दिया है।समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, घोटाले पर पहली बार बयान देते हुए मोदी ने कहा है कि पंजाब नैशनल बैंक (PNB) द्वारा मामले को सार्वजनिक कर दिए जाने से अब बात बिगड़ गई है और बैंक ने उससे बकाया वसूलने के सारे रास्ते बंद कर लिए हैं। इसके साथ ही मोदी का दावा है कि उसकी कंपनियों पर बकाया बैंक द्वारा बताई जा रही राशि से बेहद कम है।

पीएनबी प्रबंधन को 15-16 फरवरी को लिखे एक पत्र में नीरव मोदी ने कहा कि उसकी कंपनियों पर बैंक का बकाया 5,000 करोड़ रुपये से कम है। पत्र के अनुसार, ‘गलत तौर पर बताई गई बकाया राशि से मीडिया में होहल्ला हो गया और परिणाम स्वरूप तत्काल तौर पर खोज का काम शुरू हो गया और परिचालन भी बंद हो गया। इससे समूह पर बैंक के बकाया को चुकाने की हमारी क्षमता खतरे में पड़ गई है।’

बता दें कि नीरव अपने परिवार समेत जनवरी के पहले सप्ताह में ही देश छोड़कर भाग गया था। उसने कहा कि, ’13 फरवरी को की गई मेरी पेशकश के बावजूद बकाया को तत्काल पाने की हड़बड़ी में की गई कार्रवाई ने मेरे ब्रैंड और कारोबार को तबाह कर दिया और इससे अब बकाया वसूलने की आपकी क्षमता सीमित हो गई है।’

गौरतलब है कि जांच एजेंसियां घोटाला सामने आने के फौरन बाद से ही उसकी संपत्तियों और ठिकानों पर कार्रवाई में जुटी हुई हैं। अब तक इस सिलसिले में 5,716 करोड़ की संपत्तियां जब्त की जा चुकी हैं। साथ ही नीरव को भारत लाने के लिए जरूरी कार्रवाई पर भी काम शुरू कर दिया गया है।

देश के दूसरे सबसे बड़े सरकारी बैंक पीएनबी ने बीते 14 फरवरी को स्टॉक एक्सचेंज को जानकारी दी थी कि मुंबई के ब्राडी हाउस शाखा में करीब 11,500 करोड़ रूपए का घोटाला हुआ है। जिसके बाद नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चौकसी की गीतांजलि ग्रुप और कुछ और डायमंड और ज्वेलरी कारोबारियों पर शक जताया गया था।

कांग्रेस का दावा- सरकार ने नीरव मोदी को भगाया

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि पंजाब नेशनल बैंक में हुए 11,300 करोड़ रुपये के इस महाघोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी को केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने भगाया है। कांग्रेस ने दावा किया है कि वैभव नाम के शख्स ने 7 मई 2015 को पीएमओ, ईडी, सेबी, गुजरात और महाराष्ट्र सरकार को घोटाले की जानकारी दी थी।

वहीं 20 जुलाई 2016 को दिग्विजय जडेजा ने गुजरात हाईकोर्ट में हलफनामा दायर कर कहा कि चौकसी बैंकों के 9,872 करोड़ लेकर भाग सकता है। जबकि 26 जुलाई 2016 को हरि प्रसाद नाम के शख्स ने पीएमओ को चौकसी की शिकायत की थी। चौकसी के विदेश भागने की आशंका जताई गई थी।

PNB का पूर्व डिप्टी मैनेजर सहित तीन गिरफ्तार

पंजाब नेशनल बैंक घोटाले में सीबीआई ने शनिवार (17 फरवरी) को बैंक के दो अधिकारियों और नीरव मोदी की कंपनी के एक अधिकारी को गिरफ्तार किया। सीबीआई ने तीनों को अदालत में पेश किया। जहां से उन्हें 3 मार्च तक के लिए सीबीआई की हिरासत में भेज दिया गया। सीबीआई अफसरों ने बताया कि नीरव मोदी, उसकी कंपनियों व मेहुल चोकसी के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी के आधार पर पीएबी के तत्कालीन उप प्रबंधक गोकुलनाथ शेट्टी (अब रिटायर), एकल खिड़की संचालक मनोज खराट और हेमंत भट्ट को गिरफ्तार किया गया है।

भट्ट नीरव की कंपनी का अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता था। इस प्राथमिकी में करीब 280 करोड़ रुपये के फर्जी लेनदेन के आठ मामले दर्ज हैं। बैंक से फिर मिली शिकायतों के बाद यह मामला करीब 6,498 करोड़ रुपये का हो गया है। यह शेट्टी और खराट द्वारा कथित तौर पर फर्जी तरीके से 150 साख पत्र (लेओयू) जारी करने से जुड़ा है। सीबीआई अफसरों ने बताया कि गीतांजलि समूह के लिए जारी किए गए करीब 4,886 करोड़ रुपये के शेष 150 साखपत्र दूसरी प्राथमिकी का हिस्सा हैं और उनकी भी जांच जारी है।

नीरव मोदी और मेहुल चोकसी का पासपोर्ट निलंबित

विदेश मंत्रालय ने नीरव मोदी और मेहुल चोकसी का पासपोर्ट चार हफ्तों के लिए निलंबित कर दिया है। मंत्रालय ने उनसे एक हफ्ते में जवाब मांगा है कि उनका पासपोर्ट रद्द क्यों नहीं किया जाए। सीबीआई और ईडी ने विदेश मंत्रालय में अलग-अलग आवेदन भेजकर मांग की थी कि नीरव मोदी और उसके मामा तथा उसके कारोबारी साझेदार मेहुल चोकसी का पासपोर्ट रद्द किया जाए। चोकसी गीतांजलि जूलरी चेन का प्रमोटर है। दोनों 280 करोड़ रुपये के बैंक धोखाधड़ी के मामले में आरोपी हैं।

नीरव मोदी कहां, पता नहीं

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नीरव मोदी न्यूयॉर्क में है। हालांकि विदेश मंत्रालय ने कहा है कि नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के बारे में उनके पास कोई जानकारी नहीं हैं कि वे कहां पर हैं। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि उसका ठिकाना पता नहीं। लेकिन वह जहां भी होगा, वहां से भाग नहीं सकता। बताया जा रहा है कि नीरव अपने परिवार के साथ न्यूयॉर्क की एक होटल में ठहरा हुआ है।

क्या है PNB घोटाला?

देश के दूसरे सबसे बैंक पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में 11,300 करोड़ से ज्यादा का फर्जीवाड़े का फर्दाफाश हुआ है। ये घोटाला मुंबई की एक ब्रांच में हुआ है। पीएनबी के अधिकारियों ने धोखाधड़ी कर अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी से जुड़े फर्मों को फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (एलओयू) दिया। एलओयू एक तरह की गारंटी होती है, जिसके आधार पर दूसरे बैंक खातेदार को पैसा मुहैया करा देते हैं। यह घोटाला 2011 से चल रहा था।

पीएनबी ने इस मामले में 280 करो़ड़ रुपए के घोटाले की पहली शिकायत 29 जनवरी 2018 को सीबीआई से की थी। सीबीआई ने 31 जनवरी को केस दर्ज किया था, लेकिन आरोपी इससे काफी पहले ही देश से निकल चुके थे। पीएनबी ने नीरव व अन्य के खिलाफ दूसरी शिकायत 14 फरवरी को सीबीआई से की है। इसमें 11,300 की करोड़ रुपए की फर्जीवाड़े का आरोप लगाया गया है।

इस सारी धोखाधड़ी से तब पर्दा हटा जब पंजाब नेशनल बैंक के भ्रष्ट कर्मचारी-अधिकारी रिटायर हो गए और नीरव मोदी की कंपनी के अधिकारियों ने जनवरी में दोबारा इसी तरह की सुविधा शुरू करने की गुजारिश की। नए अधिकारियों ने ये गलती पकड़ ली और घोटाले से पर्दा हटाने के लिए आंतरिक जांच शुरू कर दी। 14 फरवरी को आंतरिक जांच पूरी होने के बाद पंजाब नेशनल बैंक ने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को इस फर्जीवाड़े की जानकारी दी।

सीबीआई ने नीरव मोदी, उनकी पत्नी, भाई और कारोबारी साझेदार के खिलाफ मामला दर्ज किया है। उन पर आपराधिक साजिश रचने का आरोप लगा है। खबरों के मुताबिक भारतीय नागरिक नीरव मोदी और बेल्जियम के नागरिक उनके भाई निशाल 1 जनवरी को भारत से रवाना हुए थे। उनकी पत्नी अमरीकी नागरिक हैं और वो 6 जनवरी को भारत से गईं।

 

"
"

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here