राजस्थान: नीट परीक्षा टॉप करने वाले नलिन खंडेलवाल को बधाइयों का लगा तांता, केंद्रीय मंत्री और सीएम ने दी बधाई, टॉपर ने बताया सफलता का राज

0

राष्ट्रीय योग्यता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) 2019 के नतीजे बुधवार को घोषित किए गए। राजस्थान के नलिन खंडेलवाल परीक्षा में पहले स्थान पर रहे। दिल्ली में सर्वाधिक उम्मीदवारों ने परीक्षा पास की। दिल्ली में 74.92 प्रतिशत, हरियाणा में 73.41 और चंडीगढ़ में 73.24 प्रतिशत उम्मीदवारों ने परीक्षा पास की। नगालैंड में सबसे कम 34.52 फीसदी उम्मीदवारों ने परीक्षा पास की।

Photo: Hindustan Times

‘नीट’ की परीक्षा भारतीय चिकित्सा परिषद (एमसीआई) और भारतीय दंत परिषद (डीसीआई) द्वारा मान्यता प्राप्त मेडिकल और डेंटल कॉलेजों में एमबीबीएस और बीडीएस पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) आयोजित करती है। नलिन का कहा कि मैं पहली रैंक हासिल कर बहुत खुश हूं। उन्होंने बताया कि वह 8 घंटे तक रोजाना पढ़ाई की। मैं अपने शिक्षकों को धन्यवाद देना चाहूंगा।

केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने दी बधाई

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने नलिन खंडेलवाल सहित सभी सफल छात्रों को शुभकामनाएं दी। उन्होंने टि्वटर पर लिखा, ‘‘नलिन खंडेलवाल जी को नीट 2019 में पहला स्थान पाने पर बधाई। साथ ही सभी सफल छात्रों को मेरी शुभकामनाएं। ईश्वर करें परीक्षा में उनका प्रदर्शन हमें गौरवान्वित करता रहे।’’

खंडेलवाल परीक्षा में अधिकतम 720 में से 701 अंक प्राप्त करके शीर्ष स्थान पर रहे। हर्षवर्धन के अलावा राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने टि्वटर पर कहा, ‘‘नीट 2019 टॉप करने वाले राजस्थान के नलिन खंडेलवाल को हार्दिक बधाई। हमें आप पर गर्व है। मैं परीक्षा पास करने के लिए सभी रैंक धारकों और सफल उम्मीदवारों को बधाई देता हूं। आपके भविष्य के लिए शुभकामनाएं।’’

दिल्ली के भाविक बंसल और उत्तर प्रदेश के अक्षत कौशिक ने क्रमश: दूसरा और तीसरा स्थान हासिल किया। बंसल और कौशिक दोनों ने 720 में से 700 अंक हासिल किए, लेकिन बंसल को दूसरा स्थान दिया गया, क्योंकि उन्होंने जीव विज्ञान में कौशिक से अधिक अंक प्राप्त किए। हरियाणा के स्वास्तिक भाटिया ने 696 अंक लाकर चौथा स्थान प्राप्त किया है, जबकि उत्तर प्रदेश के अनंत जैन ने 695 अंक हासिल किए।

तेलंगाना की माधुरी रेड्डी जी लड़कियों की सूची में शीर्ष स्थान पर रहीं और उन्होंने अखिल भारतीय स्तर पर सातवां स्थान प्राप्त किया। उन्हें 720 में से 695 अंक मिले। राजस्थान के भेराराम 720 में से 604 अंक पाकर दिव्यांग उम्मीदवारों की सूची में शीर्ष स्थान पर रहे। उत्तर प्रदेश की सभ्यता सिंह कुशवाहा 610 अंक लाकर दिव्यांग महिला उम्मीदवारों में पहले नंबर पर रहीं।

नलिन ने बताया सफलता का राज

नलिन राजस्थान के कोटा से हैं उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि ऑल इंडिया में पहली रैंक प्राप्त करके मैं बहुत खुश हूं। मैं रोजाना करीब आठ घंटे पढ़ाई करता था और अपनी इस कामयाबी के लिए मैं अपने टीचर्स को धन्यवाद कहता हूं। नलिन के पिता राकेश खंडेलवाल सीकर में स्थित एक अस्पताल के संचालक हैं उनकी मां विनीता खंडेलवाल भी डॉक्टर हैं। तैयारी के दौरान नलिन ने सोशल मीडिया और स्मार्ट फोन से दूरी बनाए रखी। नलिन कहते हैं, ‘मैं कभी सोशल मीडिया पर नहीं रहा। स्मार्ट फोन भी कभी यूज नहीं किया। सिर्फ नॉर्मल फोन इस्तेमाल करता था।’

नलिन ने बताया, “मैंने जयपुर में दो साल तक पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित किया। चूंकि मेरे माता-पिता डॉक्टर हैं और मेरा बड़ा भाई भी एमबीबीएस कर रहा है, इसलिए मुझे उनके साथ-साथ मेरे शिक्षकों से भी पूरा सहयोग मिला। नलिन ने कहा, “उन्होंने सोशल मीडिया और स्मार्टफोन से ब्रेक ले लिया। एक दिन में लगभग 7-8 घंटे अध्ययन किया। वहीं, एक प्रेस कांफ्रेंस में जयपुर के एलन कैरियर संस्थान के अकादमिक प्रमुख और संरक्षक आशीष अरोड़ा ने कहा कि नलिन ने परीक्षा में टॉप किया है और कोचिंग संस्थान के कोटा केंद्र से दो छात्रों ने पांचवीं और दसवीं रैंक हासिल की है।

शीर्ष 50 छात्रों में 9 एनसीआर के शामिल

नीट परीक्षा 2019 में सफल शीर्ष पचास छात्रों में नौ राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) के हैं। एनसीआर के करीब 74.92 प्रतिशत छात्रों ने परीक्षा में अर्हता प्राप्त की है। ओडिशा में नीट में करीब 59 प्रतिशत विद्यार्थी सफल रहे। राज्य में चक्रवात फोनी के कारण नीट परीक्षा स्थगित कर दी गई थी। इस परीक्षा में 14 लाख 10 हजार 755 छात्र शामिल हुए थे जिसमें से सात लाख 97 हजार 42 उत्तीर्ण हुए हैं। ‘नीट’ का आयोजन 11 भाषाओं और 2546 केन्द्रों पर कुल 154 शहरों में किया गया था।

परीक्षा में बैठने वाले कुल छह लाख 30 हजार 283 में से तीन लाख 51 हजार 278 पुरुष और परीक्षा में शामिल सात लाख 80 हजार 467 महिला उम्मीदवारों में से चार लाख 45 हजार 761 उत्तीर्ण हुए। परीक्षा में शामिल पांच ट्रांसजेंडर में से तीन ने इसे पास किया। एनटीए ने पांच मई और 20 मई को देशभर में ‘नीट’ की परीक्षा का आयोजन किया था।एमसीआई और डीसीआई केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अधीन आते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here