सुप्रीम कोर्ट ने कहा SIT करेगी नौसेना में पत्नियों की अदला बदली के केस की जांच

0

सुप्रीम कोर्ट में मुख्य न्यायाधीश जस्टिस टी एस ठाकुर की अध्यक्षता वाली बेंच ने नौसेना अफसरों पर चल रहे वाइफ़ स्वेपिंग (पत्नियों की अदला बदली) केस की जांच सीबीआई से कराने की अपील खारिज कर दी है।

सुप्रीम कोर्ट ने केरल पुलिस को SIT गठित कर इस मामले की जांच करने का आदेश दिया।

गौरतलब है कि साल 2012 में नेवी के एक लेफ्टिनेंट की पत्नी ने अपने पति रवि किरण और नौसेना के अधिकारियों पर यौन शोषण, मानसिक प्रताड़ना और वाइफ़ स्वेपिंग जैसे गंभीर आरोप लगाए थे।
hqdefault

वाइफ़ स्वेपिंग के इस मामले में पीड़ित महिला ने साल 2013 में FIR भी दर्ज कराई थी। इस हाइ प्रोफ़ाइल मामले की जांच अब तक केरल और दिल्ली पुलिस कर रही थी।

नवभारत टाइम्स के मुताबिक पीड़ित महिला ने अपनी वकील कामिनी जयसवाल के द्वारा सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई थी कि मामले की जांच किसी केंद्रीय ऐजन्सी से कराई जाए। कामिनी जयसवाल के मुताबिक नौसेना अफसर पीड़िता पर दबाव डालकर परेशान कर रहे है। जयसवाल ने ये भी आरोप लगाया कि केरल पुलिस रवि किरण के प्रभाव में है।

गौरतलब है कि कोच्चि में तैनात नौसेना में लेफ्टिनेंट रवि किरण पर उनकी पत्नी ने आरोप लगाया था कि उन्हे जबरन वरिष्ठ अधिकारियों के साथ संबंध बनाने के लिए मज़बूर किया जाता था और इस काम में रवि किरण के साथ नौसेना के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल थे।

(Our earlier headline said that SC had ordered CBI inquiry, which turned out to be untrue. Our source was Navbharat Times. ABP and Jagran too reported the same. But the latest copy by PTI has said that the SC actually rejected the plea for CBI inquiry)

 

LEAVE A REPLY