‘नेवी डे’ पर सेना के कार्यक्रम में नहीं पहुंचे रक्षामंत्री पर्रिकर, ‘एयरफोर्स डे’ में भी रहे थे अनुपस्थित

0

रविवार को भारतीय नौसेना दिवस मनाया गया। नेवी डे के मौके पर नौसेना चीफ अपने आवास पर कार्यक्रम रखते हैं। लेकिन गोवा में चुनाव प्रचार में व्‍यस्‍त होने की वजह से रक्षामंत्री पर्रिकर कार्यक्रम में नहीं पहुंच सके।

Defence Ministry

इस दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत, सेना प्रमुख दलबीर सिंह, नौसेना प्रमुख सुनील लांबा और वायुसेना प्रमुख अरूप राहा ने अमर जवानों को याद किया। भारतीय नौसेना दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर नौसेना को बधाई दी। पीएम ने ट्वीट कर लिखा कि, ‘सभी नौसेना कर्मियों और उनके परिवारों को इस दिवस की बधाई। हम नौसेना के अहम योगदान की सराहना करते हैं।

इसके अलावा नौसेना दिवस पर अमर जवान ज्योति पर पहुंचकर सेना प्रमुख दलबीर सिंह, नौसेना प्रमुख सुनील लांबा और वायुसेना प्रमुख अरूप राहा ने अमर जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की। जनसत्ता की खबर के अनुसार, नेवी डे के मौके पर नौसेना चीफ अपने आवास पर कार्यक्रम रखते हैं, मगर पर्रिकर गोवा में चुनाव प्रचार में व्‍यस्‍त होने की वजह से कार्यक्रम में नहीं पहुंच पाएंगे। गोवा में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं।

Also Read:  अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप आज रात प्रधानमंत्री मोदी से करेंगे फोन पर बात
Congress advt 2

ऐसा दूसरी बार है कि जब राजनैतिक कारणों की वजह से रक्षामंत्री पर्रिकर भारतीय सेना के सेवा दिवस कार्यक्रम में शामिल नहीं हो सके। वह इससे पहले एयरफोर्स दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में भी हिस्‍सा नहीं ले पाए थे।

Also Read:  सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री मोदी की शैक्षिक योग्यता से जुडी RTI ख़ारिज करने के फैसले की कड़ी आलोचना

बल्कि रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने भी ट्विटर पर नौसेना दिवस की शुभकामनाएं दीं। उन्‍होंने लिखा कि ”इस नौसेना दिवस पर, मैं भारतीय नौसेना के सभी अधिकारियों, नाविकों और नागरिकों को बधाई देता हूं। उनकी सफलता की कामना करता हूं।”

वर्ष 1934 में रॉयल इंडियन नेवी की स्थापना हुई थी। वर्ष 1950 में गणतंत्र लागू होते ही भारतीय नौसेना ने रॉयल नाम को त्याग दिया था। चार दिसंबर को नौसेना दिवस मनाने के पीछे इसका गौरवमयी इतिहास है।

Also Read:  भाजपा में मडकाईकर के शामिल होने पर पर्रिकर और नाईक के बीच हुआ विवाद

‘ऑपरेशन ट्राइडेंट’ के तहत चार दिसंबर वर्ष 1971 को भारतीय नौसेना ने करांची नौसैना के अड्डे (तेल डिपो भी शामिल) पर पहली बार जहाज से मार करने वाली एंटी शिप मिसाइल से हमला किया था। पाकिस्तान के तीन जहाज नष्ट कर दिए थे। इसी ऑपरेशन को जीतने की खुशी में चार दिसंबर को नौसेना दिवस मनाया जाता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here