LIVE: पंचतत्व में विलीन हुए मनोहर पर्रिकर, राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार, गोवा पहुंच पीएम मोदी सहित दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि

0

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर और देश के पूर्व रक्षा मंत्री की आखिरी सफर पर निकल चुके हैं। पर्रिकर का सोमवार (18 मार्च) को पणजी में पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। मंत्रोच्चारण के बीच पूरे रीति-रिवाजों के अनुसार अंतिम संस्कार हुआ। पर्रिकर की अंतिम यात्रा में हजारों लोग शामिल थे। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु ने गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को श्रद्धासुमन अर्पित किए। पीएम दोपहर बाद पणजी पहुंचे और उन्होंने कला अकादमी में पर्रिकर को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद प्रधानमंत्री पर्रिकर के परिजनों से मिले और उन्हें सांत्वना दी।

Photo: @narendramodi

सरकार ने मनोहर पर्रिकर के निधन पर सोमवार (18 मार्च) को राष्ट्रीय शोक का ऐलान किया है। गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि राष्ट्रीय राजधानी, केंद्र शासित प्रदेशों और राज्य की राजधानियों में राष्ट्रध्वज आधा झुका रहेगा। पर्रिकर का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा। बता दें कि गोवा के मुख्यमंत्री का पणजी में उनके निजी आवास पर रविवार (17 मार्च) की शाम निधन हो गया। वह 63 वर्ष के थे। पर्रिकर के परिवार में दो पुत्र और उनका परिवार है।

पर्रिकर के अंतिम दर्शन करने उमड़ा जन सैलाब

मनोहर पर्रिकर के अंतिम दर्शन करने के लिए राजधानी पणजी की सड़कों पर सोमवार को हजारों की संख्या में लोग उमड़ पड़े। पर्रिकर का पार्थिव शरीर बीजेपी कार्यालय में लाया गया ताकि पार्टी कार्यकर्ता उन्हें अंतिम विदाई दे सकें। पर्रिकर का अग्नाशय की बीमारी के कारण रविवार शाम को निधन हो गया था। इसके बाद उनका पार्थिव शरीर बीजेपी कार्यालय से करीब तीन किलोमीटर दूर कला अकादमी ले जाया जाया गया, जहां लोग उनके अंतिम दर्शन कर रहे हैं।

तिरंगे में लिपटा पर्रिकर का पार्थिव शरीर जब बीजेपी कार्यालय में लाया गया तो वहां मातम छा गया और उनके सैकड़ों समर्थकों की आंखें नम हो गईं। मुख्यमंत्री का पार्थिव शरीर लेकर आ रहे ट्रक ने पणजी के डोना पौला में उनके निजी आवास से पांच किलोमीटर की दूरी तय की। इस छोटे से तटीय राज्य से देश के रक्षा मंत्री बने पर्रिकर के पार्थिव शरीर के दर्शन करने के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा।

लंबे समय से बीमार और अग्नाशय कैंसर की अंतिम अवस्था से जूझ रहे पर्रिकर का पिछले एक वर्ष से गोवा, मुंबई , अमेरिका तथा नई दिल्ली के अस्पतालों में उनका उपचार चल रहा था। उन्होंने गोवा में पणजी के समीप दोना पाउला स्थित अपने निजी आवास में अंतिम सांसे ली। चार बार के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री पर्रिकर फरवरी 2018 से ही अग्नाशय संबंधी बीमारी से जूझ रहे थे। पिछले एक साल से बीमार चल रहे बीजेपी के वरिष्ठ नेता का स्वास्थ्य दो दिन पहले बहुत बिगड़ गया था।

देखिए, लाइव अपडेट्स:

  • श्रद्धांजलि देने के बाद पीएम मोदी ने पर्रिकर के दोनों बेटों से मुलाकात की, वहां वह काफी देर तक उनके आगे मौन खड़े रहे।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गोवा पहुंचकर दिवंगत सीएम मनोहर पर्रिकर को श्रद्धांजलि दी।
  • पीएम नरेंद्र मोदी दिवंगत सीएम पर्रिकर के परिवार वालों से मुलाकात की और उन्हें ढांढस बंधाया। उन्होंने दिवंगत सीएम मनोहर पर्रिकर को अंतिम विदाई देते हुए काफी भावुक दिखे।
  • कर्नाटकः कालबुर्गी में रैली के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और अन्य कांग्रेस नेताओं ने गोवा सीएम मनोहर पर्रिकर के निधन के शोक में 2 मिनट का मौन रखा।
  • समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक, गोवा BJP अध्यक्ष ने कहा, अगले CM पर अपराह्न 2 बजे तक फैसला, 3 बजे के बाद शपथग्रहण समारोह।
  • देखिए, गोवा में दिवंगत मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को श्रद्धांजलि देने के लिए लोगों का लगा तांता।
  • निश्चित रूप से हम 12 विधायकों में से ही किसी को राज्य सरकार की कमान सौंपी जानी चाहिएः गोवा के बीजेपी विधायक ग्लेन टिक्लो
  • दिवंगत गोवा सीएम मनोहर पर्रिकर को श्रद्धांजलि देने के लिए थोड़ी देर में गोवा रवाना होंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।
  • गोवाः पणजी स्थित बीजेपी दफ्तर लाया गया दिवंगत सीएम मनोहर पर्रिकर का पार्थिव शरीर, श्रद्धांजलि देने पहुंचे केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी सहित तमाम दिग्गज हस्तियां।

राष्ट्रपति, पीएम और राहुल गांधी सहित तमाम मुख्यमंत्रियों और सभी नेताओं जताया शोक

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, वित्त मंत्री अरुण जेटली, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत कई अन्य नेताओं ने गोवा के मुख्यमंत्री एवं पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन पर शोक व्यक्त किया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट किया है, ‘‘गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन की सूचना पाकर शोकाकुल हूं।’’ उन्होंने कहा कि पर्रिकर बेहद साहस और सम्मान के साथ अपनी बीमारी से लड़े। उन्होंने लिखा है कि सार्वजनिक जीवन में वह ईमानदारी और समर्पण की मिसाल हैं और गोवा और भारत की जनता के लिए उनके काम को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा।

वहीं, पर्रिकर के निधन पर शोक जताते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट किया है, ‘‘मनोहर पर्रिकर बेमिसाल नेता थे। एक सच्चे देशभक्त और असाधारण प्रशासक थे, सभी उनका सम्मान करते थे। देश के प्रति उनकी निस्वार्थ सेवा पीढ़ियों तक याद रखी जाएगी। उनके निधन से बहुत दुखी हूं। उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदनाएं। शांति।’’

पीएम मोदी ने कहा कि जब पर्रिकर रक्षा मंत्री थे तो भारत ने कई फैसले दिए जिसने देश की सुरक्षा क्षमताओं को बढ़ाया, स्वदेशी रक्षा उत्पादन बढ़ाया और पूर्व सैनिकों के जीवन को बेहतर बनाया। उन्होंने कहा, ‘‘यह उनका मधुरभाषी व्यक्तित्व और मिलनसार स्वभाव था कि वह वर्षों तक राज्य के पसंदीदा नेता रहे। उनकी जन समर्थक नीतियों ने गोवा को प्रगति की नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया।’’

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को कहा कि भारत ने एक सच्चा देशभक्त खो दिया जिसका पूरा जीवन राष्ट्र और सिद्धांतों को समर्पित था। शाह ने कहा कि पर्रिकर ने दिखाया कि कैसे बीजेपी का एक कार्यकर्ता ‘‘उसके सबसे कठिन समय में भी, राष्ट्र सर्वप्रथम, फिर पार्टी और स्वयं को अंत में रखने के सिद्धांत पर अटल रहता है।’’

शाह ने कहा, ‘‘मनोहर पर्रिकर का निधन बेहद दुखदायी है। उनके रूप में भारत ने एक सच्चा देशभक्त खोया है जिसने निस्वार्थ भाव से अपना पूरा जीवन देश और सिद्धांतों के हवाले कर दिया। जनता के प्रति पर्रिकर का समर्पण और उनका कर्तव्य अनुकरणीय है। भारत के रक्षा मंत्री और गोवा के मुख्यमंत्री के रूप में उनके योगदान को हमेशा याद किया जाएगा।’’ उन्होंने कहा कि पूरी बीजेपी पर्रिकर के परिवार के साथ है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया है, ‘‘गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन की सूचना से मैं बहुत दुखी हूं। वह एक साल तक पूरे साहस से अपनी बीमारी से लड़ते रहे। दलगत राजनीति से इतर सभी उनका मान-सम्मान करते थे और वह गोवा के सबसे लोकप्रिय बेटों में से एक थे। दुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिजन के साथ हैं।’’ तमाम केंद्रीय मंत्रियों, कांग्रेस नेताओं और विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी पर्रिकर के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

ऐसा रहा सफर

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के प्रचारक के तौर पर शुरुआत कर गोवा के मुख्यमंत्री और देश के रक्षा मंत्री बनने वाले पर्रिकर की छवि हमेशा ही बहुत सरल और सामान्य व्यक्ति की रही। वह सर्वस्वीकार्य नेता थे। ना सिर्फ बीजेपी बल्कि दूसरे दलों के लोग भी उनका मान-सम्मान करते थे। उन्होंने गोवा में बीजेपी को मजबूत आधार प्रदान किया। लंबे समय तक कांग्रेस का गढ़ रहने वाले गोवा में क्षेत्रीय संगठनों की पकड़ के बावजूद बीजेपी उनके कारण मजबूत हुई।

मध्यमवर्गिय परिवार में 13 दिसंबर, 1955 में जन्मे पर्रिकर ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रचारक के रूप में करियर शुरू किया। यहां तक कि आईआईटी बंबई से स्नातक करने के बाद भी वह संघ से जुड़े रहे। सक्रिय राजनीति में पर्रिकर का पदार्पण 1994 में पणजी सीट से बीजेपी टिकट पर चुनाव जीतने के साथ हुआ। वह 2014 से 2017 तक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कैबिनेट में रक्षा मंत्री रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here