राष्ट्रपति के अलावा स्मृति ईरानी के हाथों राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार दिए जाने पर छिड़ा विवाद, 60 से ज्यादा विजेता अवॉर्ड्स समारोह का कर सकते हैं बहिष्कार

0

राजधानी दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में गुरुवार (3 मई) को 65वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे। आज शाम करीब 5.30 बजे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद विज्ञान भवन में विजेताओं को सम्मानित करेंगे। हालांकि, पुरस्कार समारोह शुरू होने से पहले ही यह कार्यक्रम विवादों में आ गया है। रिपोर्ट के मुताबिक सम्मान पाने वाले फिल्म कलाकारों में से करीब 75 से अधिक विजेताओं ने कार्यक्रम के बहिष्कार की धमकी दी है।

स्मृति ईरानी
File Photo

दरअसल, समाचार एजेंसी PTI के मुताबिक कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सम्मान पाने वाले विजेताओं में से सिर्फ 11 लोगों को ही पुरस्कार देंगे। ऐसे में बाकी बचे लोगों में आयोजन के तौर-तरीकों को लेकर नाराजगी है। PTI के मुताबिक, अब तक 60 से ज्यादा कलाकारों ने समारोह में ना जाने की बात कही है। वहीं समाचार एजेंसी ANI की मानें तो 75 पुरस्कार विजेताओं ने अवॉर्ड समारोह के बॉयकॉट की धमकी दी है।

रिपोर्ट के मुताबिक, राष्ट्रीय फिल्म अवॉर्ड्स की ड्रेस रिहर्सल के दौरान विजेताओं को जानकारी मिली कि पुरस्कार समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सिर्फ एक घंटे के लिए ही शामिल होंगे। इस दौरान वह सिर्फ 11 विजेताओं को ही पुरस्कृत कर पाएंगे। जैसे ही यह जानकारी विजेताओं को मिली इसके विरोध में अन्य कलाकारों ने पुरस्कार समारोह में शामिल ना होने की धमकी दी है। बता दें कि इससे पहले पारंपरिक तौर पर देश के राष्ट्रपति ही प्रत्येक विजेताओं को सम्मानित करते आ रहे हैं।

NBT के मुताबिक विजेताओं को कार्यक्रम सूची देखने के बाद उन्हें पता चला कि बाकी के पुरस्कार उन्हें केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी, सूचना प्रसारण (राज्य मंत्री) राज्यवर्धन सिंह राठौड़ और सूचना व प्रसारण मंत्रालय के सचिव नरेंद्र कुमार सिन्हा प्रदान करेंगे। कार्यक्रम की इस लिस्ट में यह भी बताया गया है कि राष्ट्रपति कोविन्द शाम 5:30 बजे वेन्यू पर पहुंचेंगे, जिससे पहले दोपहर 3:30 बजे से लेकर शाम 5:30 बजे तक ईरानी और राठौड़ अधिकतर अवॉर्ड प्रदान करेंगे।

इसी बात से राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से सम्मानित होने वाली कुछ लोगों में आक्रोश है। सम्मान पाने वाले देशभर के फिल्मी विजेताओं ने राष्ट्रपति कार्यालय, डायरेक्ट्रेट ऑफ फिल्म फेस्टिवल और सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय को पत्र भी लिखा है। इसमें उन्होंने कार्यक्रम को लेकर नाखुशी जाहिर की है। हालांकि विजेताओं ने कहा कि उन्होंने इस मसले पर स्मृति ईरानी से चर्चा की है और उन्हें भरोसा दिया गया है कि उन्हें पत्र का जवाब दिया जाएगा।

राष्ट्रपति कोविन्द की ओर से केवल 11 अवॉर्ड प्रदान किए जाने की खबरों के बाद नेशनल पुरस्कार विजेता मराठी फिल्म डायरेक्टर प्रकाश ओक ने कहा, ‘हम अपमानित महसूस कर रहे हैं, 75 पुरस्कार विजातओं ने आज अवॉर्ड सेरिमनी के बॉयकॉट की धमकी दी है।’ बता दें कि 65वें फिल्म पुरस्कारों की घोषणा 13 अप्रैल को हुई थी। राष्ट्रीय फिल्मों के निर्णायक मंडल ने अभिनेता विनोद खन्ना को दादा साहेब फाल्के और अभिनेत्री श्रीदेवी को सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार देने की घोषणा की थी।

दोनों ही कलाकारों को यह पुरस्कार मरणोपरांत दिया जाएगा। निर्णायक मंडल के प्रमुख शेखर कपूर ने बताया था कि असमी फिल्म ‘विजय रॉकस्टार्स’ को सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म और मलयाली फिल्म ‘भयानकम’ के लिए जयराज को सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का पुरस्कार दिया जाएगा। वहीं बंगाली फिल्म ‘नगर कीर्तन’ में शानदार अभिनय के लिए रिद्धी सेन ने सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार अपने नाम किया है।

‘न्यूटन’ को साल के सर्वश्रेष्ठ हिन्दी फिल्म के लिए चुना गया है। वहीं एस एस राजमौली की ‘बाहुबली: द कनक्लुजन’ को सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म का पुरस्कार दिया जाएगा। बता दें कि खन्ना का पिछले साल 27 अप्रैल को 70 वर्ष की आयु में निधन हो गया था। वहीं इस साल 25 फरवरी को श्रीदेवी (54) के निधन से पूरे देश सकते में आ गया था।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here