“देश जानना चाहता है कि अर्नब पत्रकारिता से कब देगें इस्तीफा”

0

गुजरात दंगों पर अर्नब गोस्वामी के दावे को ‘फेंकूगिरी’ बताने के एक दिन बाद ही अर्नब का वह वीडियो अचानक ही यूट्यूब से हटा दिया गया है।

अर्नब गोस्वामी

इंडिया टुडे टीवी के बतौर कंसल्टिंग एडिटर राजदीप सरदेसाई ने अपने पूर्व सहयोगी अर्नब गोस्वामी से उनके झूठ का खुलासा करते हुए पुछा है कि वह पत्रकारिता कब छोड़ रहे है। उन्होंने अपने ट्वीट्स की एक श्रृंखला में लिखा, अब मैं एक साधारण सा प्रश्न पूछना चाहता हूं, राष्ट्र जानना चाहता है कि अर्नब इस्तीफा कब दे रहे है और पत्रकारिता कब छोड़ रहे है, जबकि उनके झूठी कहानी से पर्दा उठ गया है।

सरदेसाई ने कहा कि गुजरात दंगों की कवरेज के दौरान उनके साथ रहे उनके कैमरा पर्सन जल्द ही कैमरे पर सच बोलेंगे। उन्होंने लिखा, पहले उन्होंने झूठ बोला फिर उसे ढकने के लिए और अधिक झूठ बोला। हमले की घटना के समय कार मेे मेरे साथ रहे कैमरा पर्सन रुपेन पहवा सबको इस सच को बताने आ रहे है।

सरदेसाई ने इस बारें में आगे कहा कि यदी कोई व्यक्ति बचान न करने योग्य तरीके का चुनाव करता है तो मेरे पास कोई विकल्प नहीं बचता कि इस बेशर्म झूठ से पर्दा उठाया जाए।

मंगलवार को, वरिष्ठ पत्रकार, राजदीप सरदेसाई ने पूर्व पत्रकार अर्नब गोस्वामी की 2002 के गुजरात नरसंहार की कवरेज के दावों को ‘फेंकूगिरी’ बताते हुए कहा था कि उनके दावों में कोई सच्चाई नहीं है।

गोस्वामी का एक पुराना वीडियो पोस्ट करते हुए कहा कि उन्होंने 2002 में NDTV के लिए गुजरात के दंगों को कवर करते समय कथित तौर पर परेशानियों को देखा था। जबकि उनके इस दावे को खारिज करते हुए सरदेसाई ने लिखा, ‘फेंकूगिरी’ की सीमाएं होती है लेकिन ऐसा देखते हुए मुझे अपने पेशे के लिए खेद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here