मुसलमानों ने बंगाल में हिंदू व्यक्ति के कैंसर का इलाज कराने के लिए मोहर्रम का जुलूस छोड़ा

0

जहां एक तरफ रविवार(1 अक्टूबर) को दुर्गा पूजा विसर्जन और ताजिया निकालने के दौरान देश के कई जगहों में आगजनी मारपीट और पथराव के बाद तनाव व्याप्त हो गया था। वहीं दूसरी और पश्चिम बंगाल में एकता, भाईचारे और सांप्रदायिक सौहार्द्र की अनूठी मिसाल पेश की है। पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में मुसलमानों ने इस साल बीते सप्ताह मुहर्रम का जुलूस रद्द करने का फैसला किया था और एक हिंदू पड़ोसी के इलाज के लिए धन दान किया, जो कैंसर से पीड़ित है।

कैंसर
file photo

हिन्दुस्तान टाइम्स की ख़बर के मुताबिक, खरागपुर के पुरटन बाजार में मुहर्रम जुलूस का आयोजन करने वाले समाज संघ क्लब ने एक मोबाइल रिचार्ज शॉप के मालिक अबीर भुनिया(35) के लिए 50,000 रुपये जुटाए है, जो कि कैंसर से पीड़ित है। ख़बर के मुताबिक इससे पहले उन्होंने उन्हें 6,000 रुपये दे दिए हैं।

भूनिया का इलाज कोलकाता के दक्षिणी किनारे पर सरोज गुप्ता कैंसर केंद्र में कीमोथेरेपी में चल रहा है और उसे 12 लाख रूपए की जरूरत है जिसमें अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण शामिल है। समाज संगठन के सचिव अमजद खान ने कहा कि मुहर्रम का जुलूस हर साल निकाला जाता है, लेकिन हमें पहले जिंदगी बचाने की ज़रूरत है।

हमने पैसा जमा करना शुरू कर दिया है शुक्रवार को, नमाज के बाद हम अबीर के लिए एक दान अभियान की घोषणा करने के लिए मस्जिद में इमाम से पूछेंगे। हम उम्मीद करते हैं कि हमारी जुलूस के लिए बजट की तुलना में बड़ी राशि जुटानी चाहिए।

भुनिया ने अपने पड़ोसियों का आभार वयक्त करते हुए कहा कि, “मुझे नहीं पता कि मैं अंत में ठीक हो जाएगा या नहीं। लेकिन मेरे पड़ोसियों ने जो मेरे लिए क्या किया, वह मेरे दिल को छुआ है। उन्होंने अपने माता-पिता को पिछले साल खो दिया और अपनी पत्नी के साथ रहते है जो एक गृहिणी है और वे अपने पहले बच्चे की उम्मीद कर रहे हैं।

पुरटन बाजार की मुहर्रम समिति के सदस्य मोहम्मद बिलाल ने कहा, अगर हम लोगों की सेवा करेंगे तो भगवान संतुष्ट होंगे, वह कैंसर से पीड़ित है और मृत्यु के साथ लड़ रहा है हमें उसके साथ खड़ा होना चाहिए। महीं दूसरी और मुसलमानों के इन संकेतो को देखते हुए खड़गपुर नगर पालिका के अध्यक्ष प्रदीप सरकार ने कहा कि वे भुनिया को मदद करने का प्रयास करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here