सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल: गुजरात में मुस्लिम शख्स ने 500 साल पुराने हनुमान मंदिर का कराया जीर्णोद्धार

0

एक तरफ जहां देश के कई राज्यों में धर्म के नाम पर लोगों को बांटने का प्रयास किया जा रहा है। वहीं, दूसरी ओर गुजरात के अहमदाबाद में एक मुस्लिम शख्स ने सांप्रदायिक सौहार्द की अनोखी मिसाल पेश की है, जिसकी हर जगह चर्चा हो रही है।

हनुमान
फाइल फोटो- हनुमान मंदिर

जनसत्ता.कॉम की ख़बर के मुताबिक, अहमदाबाद निवासी मोइन मेमन तकरीबन 500 साल पुराने हनुमान मंदिर का जीर्णोद्धार करा रहे हैं। पुराना होने के कारण मंदिर की स्थिति बेहद खराब हो गई थी, जिसका मरम्मत कराना अनिवार्य हो गया था। पुराने अहमदाबाद के मिर्जापुर इलाके में स्थित इस ऐतिहासिक मंदिर के नीवीनीकरण का जिम्मा मोइन ने उठाया। वह खुद अपनी मौजूदगी में मंदिर का काम कराते हैं, ताकि किसी तरह की कमी न रह जाए।

मोइन बताते हैं कि उनका पूरा बचपन यहीं पर खेलते हुए गुजरा है और मंदिर के महाराज के साथ वह परिवार की तरह रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘हमारे क्षेत्र में मुस्लिम समुदाय के काफी लोग रहते हैं। हमारे बीच जाति अैर धर्म को लेकर कभी कुछ नहीं हुआ है। न हमने कभी हिंदू-मुसलमान की बात छेड़ी और न उन्होंने (हिंदू समुदाय) ऐसा कुछ कहा है। हम लोग साथ में भाईचारे के साथ रहे हैं।’

जनसत्ता.कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक, मोइन की चाहत अपने बचपन की यादों को सुरक्षित रखना और मंदिर को उसके पुराने स्वरूप में लाना था। इसी भावना के साथ उन्होंने हनुमान मंदिर के मरम्मत कराने का जिम्म लिया था। मोइन ने धर्म के नाम पर राजनीति करने वालों की आलोचना करते हुए कहा कि वे लोग जब तक हिंदू-मुस्लिम नहीं कराएंगे उनकी रोटी नहीं सिकेंगी, लेकिन दोनों समुदाय एक हो जाए तो राजनीति करने वाले भी कुछ नहीं कर पाएंगे।

जहां एक तरफ देश में सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने की घटनाएं आती रहती हैं, ऐसे में गुजरात में मोइन मेमन ने दोनों मजहबों के सामने एक मिसाल पेश की है। वहीं, मोइन की इस पहल की हर कोई तारीफ कर रहा है। इंडिया टीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, इलाके के लोग मोईन मेमन को बजरंगी भाईजान के नाम से भी जानते हैं जो हर वक्त साम्प्रदायिक सौहार्द्र के कामों में लगे रहते हैं।

बता दें कि, इससे पहले मध्यप्रदेश के एक छोटे से इलाके श्योपुर में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने सांप्रदायिक सौहार्द की अनोखी मिसाल पेश की थी। साम्प्रदायिक सौहार्द की मिसाल पेश करते हुए यहां 34 वर्षीय एक मुस्लिम व्यक्ति ने हनुमान मंदिर के लिये अपनी जमीन दान में दी है।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here