बजरंग दल के गुंडों द्वारा पीटे गए इमाम ने कहा- पुलिस वक्त पर नहीं आती तो मेरी जान चली जाती

0

जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में सोमवार(10 जुलाई) को पाक परस्त आतंकियों ने अमरनाथ यात्रियों की बस पर हमला कर दिया। इसमें सात श्रद्धालुओं की मौत हो गई। जबकि 32 अन्य घायल हो गए हैं। बताया जा रहा है अगर ड्राइवर सलीम शेख ने बहादुरी और समझदारी न दिखाता तो मरने वालो की तादाद और बढ़ सकती थी। सलीम की सूझबूझ से दूसरे यात्रियों की जान बच गई।

सलीम की समझदारी की देश भर में लोग खूब तारीफ कर रहे हैं। महबूबा सरकार ने मंगलवार को एलान किया सलीम को जम्मू-कश्मीर सरकार की तरफ से 3 लाख रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा। वहीं, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने ड्राइवर सलीम की सराहना की है। मुख्यमंत्री ने मंगलवार को सलीम को बहादुरी पुरस्कार के लिए नामित करने की भी बात भी कही।

Also Read:  गुजरात विधानसभा चुनाव: आम आदमी पार्टी ने अपने उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की

वहीं, दूसरी तरफ अमरनाथ यात्रियों पर हुए हमले के विरोध में प्रदर्शन कर रहे बजरंग दल के कथित गुंडों ने मंगलवार (11 जुलाई) को ही हरियाणा के हिसार में एक इमाम को मस्जिद से जबरन बाहर निकाल कर उनके साथ मारपीट की। इतना ही नहीं बजरंग दल के इन गुंडों ने इमाम से जबरन ‘भारत माता की जय’ बुलवाने की कोशिश की।

भगवा संगठनों के शिकार बने 30 वर्षीय मुहम्मद हारुन कासनी अब सामने आकर इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि वो हमलावरों को लगातार ये समझाते रहे कि वो आतंकियों के खिलाफ हैं, लेकिन किसी ने उनकी एक न नहीं सुनी।

हारून ने अखबार को बताया कि, ‘मैं उन्हें समझाता रहा कि मैं आतंकियों और भारत के गद्दारों के विरोधी हूं। लेकिन उन्होंने मेरी नहीं सुनी और मस्जिद से बाहर घसीट कर मुझे थप्पड़ मारे।’ हारून ने बताया कि बजरंग दल वाले मुझे जबरन घसीट कर मस्जिद से बाहर ले गए और मुझसे ‘जय श्री राम’ और ‘जय माता’ की जैसे नारे लगाने के लिए कहने लगे। ये मेरे मजहबी यकीन का मुद्दा था। मैं डरा हुआ था और चुपचाप खड़ा था। उन्हें मुझे लगातार थप्पड़ मारे।

Also Read:  मेरा चेहरा ही मेरा संदेश है, मोहल्ला क्लीनिकों पर ढकी गई मुख्यमंत्री केजरीवाल की तस्वीरें

हारून के मुताबिक, वो मौलवी हैं और हिसार आम बेचने आए थे। हारून के अनुसार घटना के वक्त मस्जिद में चार और लोग नमाज पढ़ रहे थे। हारून के अनुसार हमलावरों ने दाढ़ी और टोपी के कारण उन्हें मारपीट के लिए चुना। हारून का कहना है कि अगर पुलिस वक्त पर नहीं आती तो मेरी जान चली जाती।

यूपी के रहने वाले हैं इमाम

Also Read:  LOC पर आतंकवादी गतिविधियों को लेकर भारत-पाक के बीच DGMO स्तर की हुई बातचीत

बता दें कि हारून उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले के रहने वाले हैं। वो हिसार पहली बार आए थे। पुलिस के मुताबिक, कपित वत्स नामक शख्स के नेतृत्व में अमरनाथ यात्रियों पर हमले के विरोध में निकाले जा रहे रैली के दौरान ये घटना हुई। हिसार के पुलिस एसपी मनीष चौधरी ने अखबार को बताया कि वीडियो में दिख रहे एक आरोपी अनिल को पुलिस ने गिफ्तार कर लिया है।

(देखिए वीडियो)

हिसार में बजरंग दल के गुंडो ने किया भारत माता की जय न बोलने पर…

देख लिजिए हत्यारी भीड़ कैसी होती है, हिसार में बजरंग दल के गुंडो ने किया भारत माता की जय न बोलने पर मस्जिद के इमाम पर हमलाhttp://www.jantakareporter.com/hindi/bajrang-dal-assault-imam/135977/

Nai-post ni जनता का रिपोर्टर noong Martes, Hulyo 11, 2017

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here