दाढ़ी रखने पर निलंबित हुए मुस्लिम पुलिसकर्मी ने ठुकराया SC का ऑफर, बिना दाढ़ी नौकरी करने से किया इनकार

0

ड्यूटी के दौरान दाढ़ी रखने पर अड़े रहने के मामले में निलंबित हुए महाराष्ट्र रिजर्व पुलिस फोर्स के कर्मचारी जहीरुद्दीन शमसुद्दीन बेदादे ने गुरुवार(13 अप्रैल) को सुप्रीम कोर्ट का वह ऑफर ठुकरा दिया, जिसमें उन्हें सहानुभूति के आधार पर फिर से नौकरी जॉइन करने को कहा गया था। पुलिसकर्मी के वकील के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट का ऑफर इस्लाम के कानूनों के खिलाफ है।

suprim court

मुख्य न्यायाधीश जेएस खेहर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने बेदादे के वकील से कहा कि हम आप के लिए बुरा महसूस कर रहे हैं। आप फिर से नौकरी जॉइन क्यों नहीं कर लेते? अगर आप चाहें तो हम आपको ज्वाइन कराने में कुछ मदद कर सकते हैं, अगर आप यह मानें की कुछ धार्मिक अवसरों के अलावा आप दाढ़ी नहीं रखेंगे, तो यह आपकी इच्छा है।

Also Read:  सुब्रमनियन स्वामी ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखी चिट्ठी, NDTV और इस के पत्रकारों के खिलाफ CBI और ED की जांच की मांग की

इस पर बेदादे के वकील मोहम्मद इरशाद हनीफ ने कहा कि इस्लाम में अस्थाई दाढ़ी रखने की अवधारणा नहीं है। वकील ने इस मामले में जल्द सुनवाई की मांग थी। हालांकि, वकील के साफ जवाब नहीं देने पर चीफ जस्टिस ने जल्द सुनवाई का उनका अनुरोध ठुकरा दिया।

दरअसल, जहीरुद्दीन ने जब महाराष्ट्र रिजर्व पुलिस फोर्स में 16 जनवरी 2008 को बतौर कॉन्स्टेबल ज्वाइन किया था, उस वक्त दाढ़ी रखने की इजाजत दी गई थी। हालांकि, बेदादे को पुलिस फोर्स में आने के बाद छंटी हुई और साफ दाढ़ी रखने की शर्त पर इजाजत दी गई थी, लेकिन बाद में कमांडेंट ने इस अनुमति को वापस लेकर जहीरुद्दीन के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरु कर दी।

Also Read:  आनंद विहार स्टेशन पर बस में पेट्रोल डालकर आग लगाते युवकों का वीडियो हुआ वायरल, सरेआम दिया वारदात को अंजाम

जिसके बाद बेदादे ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। हाई कोर्ट ने 12 दिसंबर 2012 को जहीरुद्दीन के खिलाफ फैसला दिया था। अदालत ने कहा था कि फोर्स एक धर्मनिरपेक्ष एजेंसी है और यहां अनुशासन का पालन जरूरी है। हाई कोर्ट ने यह भी कहा था कि दाढ़ी रखना मौलिक अधिकार नहीं है, क्योंकि यह इस्लाम के बुनियादी उसूलों में शामिल नहीं है।

Also Read:  उत्तर प्रदेश में स्मृति ईरानी हो सकती है भाजपा की सीएम उम्मीदवार

इसके बाद बेदादे ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। सुप्रीम कोर्ट ने जनवरी 2013 में बेदादे के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई पर रोक लगा दी थी। इसके बाद से ही यह केस सुनवाई के लिए लंबित है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि उन्हें इस नियम को मान लेना चाहिए और नौकरी ज्वाइन कर लेनी चाहिए, लेकिन बेदादे ने नौकरी छोड़ने का फैसला लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here