मुंबई : अदालत ने कहा- महिला अनचाहे गर्भ को गिराने की हकदार कारण चाहे कोई भी हो

0

बंबई उच्च न्यायालय ने महिला के अपनी पसंद का जीवन जीने के अधिकार का समर्थन हुए कहा कि मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट के दायरे को महिला के ‘मानसिक स्वास्थ्य’ तक बढ़ाया जाना चाहिए और चाहे कोई भी कारण हो उसके पास अवांछित गर्भ को गिराने का विकल्प होना चाहिए.

Also Read:  उत्तर प्रदेश: दुर्गा मूर्ति विसर्जन के दौरान साम्प्रदायिक तनाव, भाजपा समर्थकों ने दिया धरना, 17 गिरफ्तार

भाषा की खबर के अनुसार, न्यायमूर्ति वीके टाहिलरमानी और न्यायमूर्ति मृदुला भाटकर की पीठ ने कल कहा कि अधिनियम का लाभ सिर्फ विवाहित महिलाओं को ही नहीं दिया जाना चाहिए बल्कि उन महिलाओं को भी मिलना चाहिए जो सहजीवन में विवाहित दंपति के रूप में अपने पार्टनर के साथ रहती हैं.

Also Read:  BJP नेता यशवंत सिन्हा ने की अलगाववादियों से बातचीत की वकालत, बोले- क्‍या अटलजी एंटी नेशनल थे?

अदालत ने कहा कि यद्यपि अधिनियम में प्रावधान है कि कोई महिला 12 सप्ताह से कम की गर्भवती है तो वह गर्भपात करा सकती है और 12 से 20 सप्ताह के बीच महिला या भ्रूण के स्वास्थ्य को खतरा होने की स्थिति में दो चिकित्सकों की सहमति से गर्भपात करा सकती है. अदालत ने कहा कि उस अवधि में उसे गर्भपात कराने की अनुमति दी जानी चाहिए भले ही उसके शारीरिक स्वास्थ्य को कोई खतरा नहीं हो.

Also Read:  एंजेलीना जोली-ब्रैड पिट के अलगाव के बाद ट्विटर पर चर्चा का विषय बनी ब्रेड की पहली पत्नी जेनिफर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here