बेलगाम मुम्बई पुलिस की बर्बरता अच्छे दिनों के झूठे वादों की धज्जियां उड़ाती हैं

0

इरशाद अली

मुम्बई पुलिस की बहादूरी का एक और नया कारनामा गुलाम मकबूल शेख के वीडियों से सामने आ गया है जिसमें अंधेरी पुलिस स्टेशन में कई पुलिस वालों ने मिलकर एक जोड़े की ना सिर्फ निर्ममता से पिटाई की बल्कि मानवीयता की सारी हदें पार करते हुए बेशर्मी के साथ कैमरे के सामने ही अपनी इस शर्मनाक हरकत को अंजाम देते रहे।

https://youtu.be/cqRo81QTywE

Also Read:  सेना ने कहा- पाकिस्तान से नहीं लिया कोई बदला, टीवी चैनल वाले बिना पूछे ही हो जाते है आग-बबूला

वीडियों में जिस तरह से पुलिस वाले इन मासूम बच्चों को मार रहे है उससे पता चलता है कि इन पर किसी तरह की कोई पाबन्दी और कानून का डर नहीं बल्कि उन्होने दिखा दिया कि वे बैखोफ होकर कुछ भी कर सकते है।

जिस प्रकार से महाराष्ट्र सरकार अपनी कारगुजारियों को अंजाम दे रही है उससे उनकी पुलिस को दी जा रही छूट इस वीडियों में सामने आ जाती है।

Also Read:  जरनैल नंगल ने दिया कांग्रेस से इस्तीफा, बताया पार्टी को धोखेबाज़ों की टोली

घटना के चश्मदीद गवाह गुलाम मकबूल एक एनजीओ वर्कर है जिन्होंने इस वीडियो को उतारा है, मकबूल ने बताया कि पुलिस वालों ने लड़की को इतनी बुरी तरह से पीटा कि उसके मुंह से खून निकल पड़ा और मुझे वीडियों शूट छोडकऱ उसे बचाने के लिये बीच में आना पड़ा लेकिन पुलिस वाले नहीं रूके।

मकबूल आगे बताते है कि पुलिस वालों को अपने करियर बनाने की फिक्र थी, जब मकबूल ने उन्हें छोड़ने की बात कही तो पुलिस वालों ने झूठा केस दर्ज करने की बात कही तब मकबूल को मजबूर होकर वीडियों को सामने लाना पड़ा।

Also Read:  मोदी सरकार की योजना पर आलोचना लिखने वाली महिला IAS अधिकारी को कारण बताओ नोटिस

बेलगाम पुलिस और ऐसी पुलिस को संरक्षण देती सरकार की किसी के प्रति कोई जवाबदेही नहीं बनती क्योंकि अच्छे दिनों की बानगी में से ये भी एक दिन है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here