टीआरपी घोटाला मामला: हंसा रिसर्च ग्रुप के पूर्व कर्मचारी को मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने यूपी के मिजार्पुर से गिरफ्तार किया

0
4
टीआरपी

टीआरपी घोटाला मामले में जांच में जुटी मुंबई पुलिस ने उत्तर प्रदेश में भी छापेमारी की है। मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए हंसा रिसर्च ग्रुप के एक पूर्व कर्मचारी को यूपी के मिजार्पुर से गिरफ्तार किया है। आरोपी की पहचान विनय त्रिपाठी के रुप में हुई है। त्रिपाठी मामले में गिरफ्तार होने वाले पांचवां व्यक्ति है। ये गिरफ्तारी सोमवार शाम को हुई। उसे मिजार्पुर में स्थानीय अदालत में मंगलवार को पेश किया जाएगा, जिसके बाद ट्रांजिट रिमांड पर लेकर उसे मुंबई ले जाया जाएगा।

टीआरपी

त्रिपाठी हंसा में काम करता था और दो साल पहले उसने नौकरी छोड़ दी थी। वह इस मामले में गिरफ्तार विशाल भंडारी के संपर्क में था और भंडारी को उन घरों में रहने वाले लोगों को पैसे बांटने के लिए देता था जहां बैरोमीटर लगाए गए थे। सहायक पुलिस इंस्पेक्टर सचिन वजे ने कहा, वह टीआरपी धोखाधड़ी का हिस्सा है और कुछ चैनलों के मालिकों या उनके कर्मचारियों के संपर्क में था।

बता दें कि, इससे पहले मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने टीआरपी घोटाले के मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया था, जिसमें हंसा के पूर्व कर्मचारी 20 वर्षीय विशाल भंडारी भी शामिल है।

गौरतलब है कि, मुंबई पुलिस ने पिछले हफ्ते टीआरपी घोटाले का दावा किया था। मुंबई के पुलिस कमिश्‍नर परमबीर सिंह ने बीते गुरुवार को एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में इस फर्जीवाड़े की जानकारी दी थी। उन्‍होंने कहा था कि इसमें रिपब्लिक टीवी  समेत कुछ चैनल्‍स शामिल हैं। (इंपुट: आईएएनएस के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here