मुलायम सिंह ने सांसदों से पूछे अजीबो गरीब सवाल, कहा- पत्नियों को दबाते तो नहीं

0

समाजवादी पार्टी (एसपी) के संस्थापक और सांसद मुलायम सिंह ने लोकसभा में सोमवार(31 जुलाई) को सांसदों से ऐसा अजीबो गरीब सवाल सवाल पूछा कि सभी हैरान रह गए। दरअसल, सपा संरक्षक भीड़ द्वारा गोरक्षा के नाम पर लोगों की पीट-पीटकर की जा रही हत्याओं के मसले पर हो रही चर्चा में हिस्सा ले रहे थे। इसी दौरान उन्होंने कहा, ‘आप में से कौन-कौन सांसद अपनी पत्नी को दबा कर नहीं रखते, हाथ खड़े करें।’

NDTV

मुलायम ने अपनी बहस की शुरुआत करते हुए कहा कि अत्याचार और उत्पीड़न की शुरुआत परिवार से होती है, महिलाओं को दबाया जाता है, पत्नियों पर अत्याचार किया जाता है। उन्होंने कहा कि समाज में समरसता कायम करने के लिए सबसे पहले परिवार में समरसता कायम करने की जरूरत है और इसके लिए पत्नियों पर अत्याचार बंद करने की शपथ ली जानी चाहिए। उन्होंने सदस्यों से लोकसभा में ऐसी शपथ लेने का आह्वान किया।

Also Read:  पार्टनर को KISS करने से पहले रखें इन बातों का ध्यान

दरअसल, मुलायम सिंह ने सदन में नियम 193 के तहत देश में अत्याचार और भीड़ द्वारा जान से मारने की कथित घटनाओं से उत्पन्न स्थिति पर चर्चा में हिस्सा लिया। लेकिन इसके बाद मुलायम ने जो कहा वह सदन में बैठे सभी सांसदों के लिए हैरान कर देने वाला था।

Also Read:  UP: सरकार बनने के बाद योगी कैबिनेट की पहली बैठक आज, किसानों की कर्ज माफी का हो सकता है फैसला

उन्होंने कहा, ‘आप में से कौन-कौन सांसद अपनी पत्नी को दबाकर नहीं रखते, हाथ खड़े करें।’ जब किसी सदस्य ने हाथ खड़ा नहीं किया तो मुलायम सिंह ने कहा कि देख लीजिए, जब सदन में यह स्थिति है तो देश में क्या हाल होगा। हालांकि, मुलायम के इस सवाल पर बीजेपी के एक सदस्य ने हाथ खड़ा किया, जिस पर एसपी नेता ने कहा कि अच्छी बात है कि आप अपनी पत्नी को दबा कर नहीं रखते। इस पर सदन में ठहाके गूंज उठे।

Also Read:  विवेक ओबेरॉय पर चढ़ा 'संस्कारी' बनने का जुनून, बोले- अब एडल्ट कॉमेडी फिल्मों से रहूंगा दूर

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि समाज में धर्म, जाति, भाषा और क्षेत्रवाद के नाम पर भेदभाव तथा हिंसा होती है और जहां तक पुरुष और महिला की बात है तो समाज में महिलाओं पर सबसे ज्यादा अत्याचार होता है। उन्होंने कहा कि समाज की हिंसा की शुरुआत परिवार से होती है और इसे रोका जाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here