टेलीकॉम कंपनी का आरोप अदालत को गुमराह कर रहे हैं महेंद्र सिंह धोनी

0

भारतीय वन-डे क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को अपना ब्रांड एम्बैसेडर बनाने वाली टेलीकॉम कंपनी ने दिल्ली हाईकोर्ट में उन पर आरोप लगाया कि वह ‘चिंताजनक हालात’ पैदा करने के लिए ‘जानबूझकर’ अदालत को गुमराह कर रहे हैं।

मैक्स मोबिलिंक प्राइवेट लिमिटेड के शीर्ष अधिकारी ने कहा कि उन्होंने कभी किसी फायदे के लिए महेंद्र सिंह धोनी के नाम का दुरुपयोग नहीं किया. धोनी ने उन पर आरोप लगाया है कि उन्होंने अदालत के वर्ष 2014 के फैसले की अवमानना की है, जिसमें कहा गया था कि कंपनी अपने उत्पाद के प्रचार या बिक्री के लिए उनके नाम का इस्तेमाल नहीं कर सकती।

Also Read:  India vs New Zealand, 5th ODI, Stats: India’s unbeaten record at home, Virat Kohli breaks another record

भाषा की खबर के अनुसार, कंपनी के प्रबंध निदेशक अजय आर. अग्रवाल ने 21 अप्रैल के इस फैसले के संदर्भ में दाखिल हलफनामे में दावा किया कि कंपनी ने 17 नवंबर, 2014 के बाद से ऐसा कोई उत्पाद नहीं बेचा है, जिसके लिए धोनी की तस्वीर या नाम का प्रयोग या दुरुपयोग किया गया. धोनी का कंपनी के साथ विज्ञापन करार दिसंबर, 2012 में खत्म हो गया था।

Also Read:  शिवसेना ने अपने संपादकीय में RBI गवर्नर उर्जित पटेल को बताया 'गूंगा बहरा तोता'

अजय आर. अग्रवाल ने कहा, ”मैं बताना चाहता हूं कि कंपनी ने अपनी वेबसाइट और सोशल मीडिया से सारी सामग्री हटा ली है, जिसमें धोनी के नाम का इस्तेमाल किया गया। मैं कहना चाहूंगा कि याचिकाकर्ता (महेंद्र सिंह धोनी) ऐसे हालात बनाने के लिए जानबूझकर अदालत को गुमराह कर रहे हैं।”

Also Read:  बिना हिजाब पत्नी की फोटो शेयर करने पर एक बार फिर कट्टरपंथियों के निशाने पर आए मोहम्मद शमी

उन्होंने कहा, ”धोनी की तस्वीरों वाली फेसबुक पोस्ट कंपनी ने 2012 में डाली थी और जानबूझकर याचिकाकर्ता (धोनी और रिति स्पोर्ट्स) पुरानी पोस्ट का इस्तेमाल कर रहे हैं…” धोनी के वकील ने हलफनामे का रिजॉइंडर दाखिल करने के लिए समय मांगा है. अदालत ने मामले की सुनवाई 24 जनवरी तक के लिए टाल दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here